फ़िल्म जगत की मशहूर कोरियोग्राफ़र सरोज ख़ान का निधन

मुंबई। हिंदी फ़िल्म जगत की मशहूर कोरियोग्राफ़र सरोज ख़ान का निधन हो गया है. वे 71 साल की थीं.
सरोज ख़ान पिछले कुछ समय से बीमार चल रही थीं. 20 जून को साँस लेने की तकलीफ़ के बाद उन्हें मुंबई में बांद्रा स्थित गुरू नानक अस्पताल में भर्ती कराया गया था.
समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार वहीं कल देर रात उन्हें कार्डिएक अरेस्ट हुआ.
एएनआई ने ख़बर दी है कि सरोज ख़ान की अंत्येष्टि मुंबई के मलाड इलाक़े में मालवाणी क़ब्रिस्तान में होगी.
पिछले दिनों उनकी कोरोना संक्रमण की भी जाँच की गई थी मगर उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई.
दिग्गज कोरियोग्राफ़र
सरोज ख़ान की गिनती भारत की फ़िल्म इंडस्ट्री के दिग्गज नृत्य निर्देशकों में होती है.
उन्होंने अपना करियर एक असिस्टेंट कोरियोग्राफ़र के तौर पर शुरू किया था. 1974 में फ़िल्म गीता मेरा नाम में उन्होंने पहली बार गानों को स्वतंत्र रूप से निर्देशित किया.
सरोज ख़ान ने 2000 से ज़्यादा गानों को कोरियोग्राफ़ किया.
उन्हें जिन गानों से प्रसिद्धि मिली उनमें तेज़ाब फ़िल्म का गाना एक-दो-तीन, देवदास का डोला रे डोला और जब वी मेट का गाना ये इश्क हाय जैसे गाने शामिल हैं.
सरोज ख़ान की अंतिम फ़िल्म जो पर्दे पर आई वो थी कलंक जिसमें उन्होंने अभिनेत्री माधुरी दीक्षित के गाने ‘तबाह हो गई’ को निर्देशित किया था.
उन्हें तीन बार बेस्ट कोरियोग्राफ़ी का राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला. नेशनल अवॉर्ड उन्हें फ़िल्म देवदास और जब वी मेट के अलावा तमिल फ़िल्म श्रृंगारम के लिए मिला.
हाल के वर्षों में वो टीवी पर होने वाले डांस रियलिटी कार्यक्रमों में निर्णायक या जज के तौर पर हिस्सा लेती रही थीं. उन्हें टीवी पर नच बलिए, झलक दिखला जा और नचले वे विद सरोज ख़ान जैसे कार्यक्रमों में देखा गया था.
साथी कलाकारों की श्रद्धांजलि
सरोज ख़ान के निधन पर लोग सोशल मीडिया पर दुख व्यक्त कर रहे हैं. अभिनेता अक्षय कुमार ने ट्वीट किया, ”सुबह इस बुरी ख़बर के साथ हुई कि कोरियोग्राफर सरोज ख़ान जी नहीं रहीं. सरोज जी ने डांस को इतना आसान बनाया था कि कोई भी डांस कर सकता था. सरोज जी के निधन से इंडस्ट्री को नुक़सान हुआ. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.”
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *