फेसबुक ने मुकेश अंबानी से कहा, DATA कोई तेल का कारोबार नहीं है

नई दिल्‍ली। फेसबुक ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी को जवाब देते हुए कहा कि DATA कोई नया तेल नहीं है। भारत जैसे देशों को DATA को देश में ही रोकने के बजाय इसके दूसरे देशों में मुक्त प्रवाह की अनुमति देनी चाहिए। फेसबुक के उपाध्यक्ष (विदेश मामले एवं संचार) निक क्लेग ने गुरुवार को कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के लिहाज से DATA साझा करना अहम है। गंभीर अपराध और आतंकवाद पर शिकंजा कसने के बीच भारत खुद को प्रमुख वैश्विक DATA-साझा करने की पहलों से बाहर रखता है।
उन्होंने कहा, भारत को इंटरनेट के लिए एक नया खाका तैयार करना चाहिए जो व्यक्तिगत अधिकारों का सम्मान करता हो। साथ ही प्रतिस्पर्धा और नवाचार को प्रोत्साहित करे और सभी के लिए मुक्त और आसानी से उपलब्ध हो।
मुकेश अंबानी ने कही थी यह बात
रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कुछ समय पहले कहा था कि DATA एक नए तेल की तरह है। भारतीय DATA का नियंत्रण और स्वामित्व भारतीय लोगों के पास होना चाहिए, DATA कंपनियों या विशेष रूप से विदेशी कंपनियों के पास नहीं।
क्लेग ने यहां एक कार्यक्रम में कहा, भारत और पूरी दुनिया में ऐसे कई लोग हैं जो DATA को नया तेल समझते हैं और उनका मानना है कि इस तरह के तेल (डाटा) के भंडार को देश की सीमा के भीतर रखने से समृद्धि आएगी। हालांकि, यह मानना सरासर गलत है।
तेल का कारोबार नहीं है DATA
DATA कोई तेल नहीं है, जिसे जमीन से निकाल कर उसका नियंत्रण अपने हाथ में रखा जाए और उसका कारोबार किया जाए। यह नवाचार के विशाल समुद्र के रूप में है। क्लेग ने कहा कि डाटा का मूल्य जमाखोरी या फिर सीमित वस्तु की तरह इसका कारोबार नहीं से नहीं प्राप्त होता है बल्कि डाटा के मुक्त प्रवाह की अनुमति दी जानी चाहिए। यह नवाचार को बढ़ावा देता है।
क्लेग ने कहा कि डाटा को देश के सीमा के बांधकर रखने और दूसरे देश में उसके प्रवाह को रोकने से यह नवाचार रूपी विशाल समुद्र को झील में बदल देगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *