फेसबुक इंडिया ने कहा, बजरंग दल पर वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट गलत

नई दिल्‍ली। फेसबुक इंडिया ने वॉल स्ट्रीट जर्नल की उस रिपोर्ट को सिरे से खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि कंपनी ने चाहकर भी बजरंग दल को सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर बैन नहीं किया था।
फेसबुक इंडिया के प्रमुख अजित मोहन ने बुधवार को संसद की एक समिति को बताया कि सोशल मीडिया कंपनी की फैक्ट फाइंडिंग टीम को ऐसी कोई सामग्री नहीं मिली, जिससे बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाने की जरूरत हो। सूत्रों ने यह जानकारी दी।
संसदीय समिति के सामने पेशी
मोहन बुधवार को कांग्रेस नेता शशि थरूर की अध्यक्षता वाली सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी संसद की स्थायी समिति के समक्ष पेश हुए। समिति ने उन्हें नागरिक डेटा सुरक्षा के मुद्दे पर तलब किया था। मोहन के साथ फेसबुक के लोक नीति निदेशक शिवनाथ ठुकराल भी थे। सूत्रों ने बताया कि थरूर के साथ कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम ने मोहन से बजरंग दल पर प्रतिबंध से जुड़ी वॉल स्ट्रीट जर्नल की हाल की रिपोर्ट के बारे में सवाल किया।
फेसबुक बोला, बजरंग दल पर प्रतिबंध की जरूरत नहीं
उन्होंने बताया कि इन सवालों के जवाब में मोहन ने समिति के सदस्यों को बताया कि कंपनी की फैक्ट फाइंडिंग टीम को ऐसी कोई सामग्री नहीं मिली, जिससे बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाने की जरूरत हो।
वॉल स्ट्रीट जर्नल में यह था दावा
वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में कहा गया है कि बजरंग दल पर प्रतिबंध की बात से जुड़े आंतरिक मूल्यांकन के बावजूद फेसबुक ने वित्तीय कारणों और अपने कर्मचारियों की सुरक्षा चिंताओं के कारण उस पर लगाम नहीं लगाई। सूत्रों ने बताया कि बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने पूछा कि अगर बजरंग दल को लेकर सोशल मीडिया नीतियों के उल्लंघन की बात नहीं पाई गई है कि तब फेसबुक ने वाल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट को खारिज कर उन्हें फर्जी क्यों नहीं बताया।
रिपोर्ट में चर्च पर हमले का जिक्र
रिपोर्ट के अनुसार हमलावरों ने पोस्टर चिपकाते हुए दावा किया था कि चर्च की स्थापना हिंदू मंदिर के स्थान पर हुई थी और वहां हमलावरों ने मूर्ति की स्थापना की थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि बजरंग दल सदस्यों ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *