जाड़ों में जरूरी है भरपूर सेहत वाली थाली

मौसम बदला है और इसी के साथ कुछ स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी सामने आने लगी हैं। ऐसे में जरूरी है कि खानपान का खास ध्यान रखा जाए। इस समय थाली भरपूर सेहत वाली होगी तो मन भी खुश रहेगा।
भोजन में विटमिन डी शमिल करना बहुत जरूरी है। इससे हड्डियां मजबूत रहती हैं। विटमिन डी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने में भी मदद करता है। विटमिन डी का बेस्ट सोर्स है सूर्य की किरणें लेकिन अगर आप धूप में नहीं निकल पाते हैं तो विटमिन डी की कमी हो सकती है। ऐसे में आप साबुत अनाज के जरिए विटमिन डी की कमी को पूरा कर सकते हैं। दलिया, गेहूं, चावल का सेवन रोज करें।
खाने की थाली में कुछ डेयरी प्रॉडक्ट्स भी जरूर शामिल करें। इनमें प्रोटीन, विटमिन और मिनरल्स पर्याप्त मात्रा में होते हैं। इनके लगातार सेवन से हड्डियां मजबूत होती हैं। आप दूध, दही, पनीर, चीज आदि का सेवन जरूर करें। सर्दी में दूध रात को खाने के बाद लें। सर्दियों में रात के वक्त दही का सेवन नुकसान पहुंचा सकता है।
बदलते मौसम में आंवला फायदा पहुंचाता है। इसमें विटमिन सी की काफी मात्रा पाई जाती है, जो अच्छा ऐंटी ऑक्सिडेंट है। आंवले के नियमित सेवन से संक्रमण संबंधी बीमारियां नहीं होती हैं। इसमें प्रचूर मात्रा में फाइबर होने के कारण यह पाचन-तंत्र को भी दुरुस्त रखता है।
हल्दी को अच्छा ऐंटी-ऑक्सिडेंट, ऐंटी-बैक्टिरियल, पेट को साफ रखने वाला माना जाता है। यह लीवर और हृदय के लिए स्वास्थ्यवर्धक है। यह जोड़ों के दर्द को कम करती है और कैंसर पर नियंत्रण में भी मददगार है। सर्दियों में दूध में हल्दी मिलाकर पीने से खांसी जैसी आम समस्याओं से निपटा जा सकता है। यह अस्थमा में भी फायदेमंद है।
टमाटर का जूस या सूप पीने से भी सेहत को लाभ होता है। इसके जूस या सूप में विटमिन प्रचूर मात्रा में होता है। इसके सेवन से इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होता है और संक्रमण से बचाव होता है। इसके साथ ही कद्दू में भले ही कोई स्वाद न हो, लेकिन यह भी फायदेमंद है। इसके जूस से भी लाभ होता है।
गले में खराश की समस्या तब ज्यादा होती है, जब मौसम में बदलाव होता है। ऐसे में गले में दर्द और खाने-पीने में दिक्कत होने लगती है। इस समस्या से बचने के लिए अदरक खाना फायदेमंद है। अदरक को चाय में डालकर या उबले पानी में डालकर पी सकते हैं। थोड़ा-सा अदरक का रस और शहद मिलाकर रोज पीने से भी राहत मिलती है।
-एजेंसी