राहुल गांधी को ‘विदेशी खून’ बताना महंगा पड़ा बसपा नेता को, पार्टी से निकाला

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ‘विदेशी खून’ बताते हुए उनकी पीएम दावेदारी पर सवाल उठाने वाले जय प्रकाश सिंह की पार्टी से छुट्टी कर दी। मायावती ने जय प्रकाश को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद से हटाते हुए पार्टी नेताओं को चेतावनी दी कि वह पार्टी लाइन से अलग बयान न दें। मंगलवार को खुद बसपा सुप्रीमो मायावती प्रेस के सामने आईं और सिंह को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व कोऑर्डिनेटर पद से हटाने का ऐलान किया। मायावती ने कहा कि जय प्रकाश सिंह का बयान उनकी व्यक्तिगत सोच है और पार्टी उससे इत्तेफाक नहीं रखती। बता दें कि बसपा की ओर से आए इस बयान के बाद तीन चुनावी राज्यों में दोनों दलों के बीच गठबंधन की संभावना खतरे में पड़ती दिख रही थी।
माया ने तुरंत किया डैमेज कंट्रोल
करीब 2 महीने पहले ही कर्नाटक में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह में सोनिया गांधी और बसपा चीफ मायावती के बीच जबरदस्त केमिस्ट्री देखने को मिली थी लेकिन बसपा के एक बड़े नेता द्वारा राहुल गांधी के विदेशी खून का मुद्दा उठाने से साफ-साफ संदेश जा रहा था कि गैरबीजेपी दलों के संभावित महामोर्चे में पीएम पद की दावेदारी को लेकर जबरदस्त ‘मारामारी’ है। जय प्रकाश सिंह का बयान ऐसे वक्त में आया था जब बसपा और कांग्रेस के बीच मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में विधानसभा चुनावों के लिए गठबंधन को लेकर चर्चा चल रही थी। सिंह के बयान से गठबंधन की कोशिशों को झटका लग सकता था, यही वजह है कि मायावती ने सिंह के खिलाफ तत्काल कार्यवाही कर डैमेज कंट्रोल किया।
क्या कहा था जय प्रकाश सिंह ने
हाल ही में बीएसपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाए गए जय प्रकाश सिंह ने लखनऊ में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए वंशवादी राजनीति पर हमला बोला था। सिंह ने जहां राहुल गांधी के ‘विदेशी खून’ का हवाला देकर उन्हें देश का नेतृत्व करने के लिए नाकाबिल बताया, वहीं यह भी कहा कि अगला नेता पेट से नहीं बल्कि पेटी (बैलट बॉक्स) से आएगा।
‘नेता पेट से नहीं, पेटी से पैदा होगा’
सोमवार को लखनऊ में बसपा कार्यकर्ताओं की रैली थी। इसी रैली में जय प्रकाश ने राहुल गांधी पर हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘पूर्व प्रधानमंत्री रहे अपने पिता राजीव गांधी की तरह उनसे कुछ उम्मीद थी। हालांकि वह अपनी मां सोनिया गांधी के पदचिन्हों पर चले। उनकी मां एक विदेशी हैं और इसलिए राहुल गांधी कभी भी भारतीय राजनीति में सफल नहीं होंगे। उनका विदेशी खून, देश का नेतृत्व करने की इजाजत नहीं देता। राजा अब रानी से पैदा नहीं होगा। अगला नेता पेट से नहीं पेटी (बैलट बॉक्स) से पैदा होगा।’
कांग्रेस से गठबंधन तय नहीं
इस समय बीएसपी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में अगले साल होने वाले चुनाव के लिए कांग्रेस के साथ गठबंधन की बातचीत कर रही है। वहीं लोकसभा चुनाव में बीएसपी और एसपी का गठबंधन लगभग तय माना जा रहा है। हालांकि अभी तक गठबंधन को लेकर कोई भी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। पार्टी सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी कांग्रेस के साथ यूपी में कोई भी गठबंधन नहीं चाहती है।
‘शक्ति मंदिर में नहीं राजनीति में है’
जय प्रकाश सिंह ने कहा, ‘शक्ति खेती, नौकरी, मंदिर और व्यवसाय में नहीं है। अगर मंदिर में शक्ति होती तो योगी आदित्यनाथ गोरखपुर मंदिर छोड़कर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं बनते। शक्ति सिर्फ एक जगह है, वह है राजनीति।’
उन्होंने स्वामी चिन्मयानंद, स्वामी अग्निवेश, उमा भारती और साध्वी ऋतम्भरा का भी उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि इन सभी धार्मिक लोगों ने अपना मठ छोड़ दिया। खुद विधायक, सांसद बन गए और आप लोगों को मंदिर की घंटी बजाने में लगा दिया। हम कोई घंटी नहीं बजाएंगे, जब तक वह लोकसभा और विधानसभा चुनाव की घंटी न हो।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »