Kailash पहुंचकर भी मोदी सरकार को नसीहत देना नहीं भूले राहुल गांधी

Kailash मानसरोवर यात्रा पर गए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी यात्रा के आध्यात्मिकअनुभवों को साझा किया है। राहुल ने कहा कि कोई व्यक्ति तभी Kailash जाता है, जब वह उसे बुलाता है। वह यह सौभाग्य पाकर खुश हैं। मानसरोवर झील की दिव्यता को बताते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने इशारों में सरकार को भी नसीहत दे डाली।
राहुल ने लिखा, ‘मानसरोवर झील का पानी बेहद शांत, स्थिर और कोमल है। यह झील सब-कुछ देती है और कुछ नहीं लेती। इसे कोई भी ग्रहण कर सकता है। यहां कोई घृणा नहीं है इसलिए भारत में इस जल को पूजा जाता है।’
Kailash बुलावा भेजता है
राहुल ने अपनी कैलाश यात्रा पर लिखा कि यह सौभाग्य उसी को मिलता है, जिसे कैलाश बुलाते हैं। उन्होंने लिखा, ‘कोई भी व्यक्ति तब कैलाश जाता है, जब वह उसे बुलाता है। यह सौभाग्य पाकर मैं बेहद खुश हूं और इस बेहद खूबसूरत यात्रा के दौरान मैंने क्या देखा, वह आपके साथ साझा करूंगा।’
बता दें कि राहुल की कैलाश यात्रा पर बीजेपी और कांग्रेस में घमासान मचा है। बीजेपी इसे पाखंड करार दे रही है, तो कांग्रेस उसे एक शिवभक्त और उसकी भक्ति के बीच में विघ्न बता रही है। इसके साथ ही राहुल गांधी की इस यात्रा को लेकर विवाद भी खड़ा हो गया था, जिसमें कहा गया था कि यात्रा के दौरान राहुल ने नॉनवेज भोजन किया था। हालांकि कुछ देर बाद काठमांडू के रेस्तरां ने सफाई दी कि राहुल ने ‘सिर्फ शाकाहारी भोजन’ ही किया है।
31 अगस्त के बाद यह राहुल गांधी की पहली ट्विटर पोस्ट है। 31 अगस्त को राहुल गांधी ने संस्कृत श्लोक के साथ कैलाश पर्वत की तस्वीर पोस्ट की थी। कांग्रेस अध्यक्ष की यात्रा से पहले पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा था, ‘शिव भक्त कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए निकल चुके हैं। वह कैलाश पर्वत की परिक्रमा करेंगे। इस यात्रा में 12-15 दिन का वक्त लगेगा, लेकिन सुरक्षा कारणों से उनके रूट की जानकारी नहीं दी जा सकती है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »