इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड ने Spot Fixing के आरोप नकारे

लंदन। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड ने Spot Fixing के उन सभी आरोपों को पूरी तरह से नकार दिया है जो एक निजी चैनल की इनवेस्टिगेटिव डॉक्यूमेंट्री के बाद उनके देश के क्रिकेटरों पर लगाए गए थे। रविवार को जारी एक इनवेस्टिगेटिव डॉक्यूमेंट्री में Spot Fixing का दावा किया गया। अल जजीरा की ओर से जारी स्टिंग में दावा किया गया था कि उसने इंटरनेशनल क्रिकेट में Spot Fixing के जरिए भ्रष्टाचार के सबूतों का खुलासा किया है।
इसमें दावा किया गया था कि इंग्लैंड टीम के कुछ खिलाड़ियों का ‘एक छोटा सा ग्रुप’ 2010 से लेकर 2012 तक के बीच 7 मैचों में फिक्सिंग में लिप्त था। रविवार को प्रसारित हुए इस स्टिंग में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और पाकिस्तान के कुछ खिलाड़ियों के भी लिप्त होने का दावा किया गया था लेकिन उन खिलाड़ियों के नाम की जानकारी नहीं दी गई।
इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने इस स्टिंग पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, ‘अल जजीरा ने मैच फिक्सिंग को लेकर जो सूचनाएं दी हैं वे सीमित हैं और बेहद खराब ढंग से तैयार की गई हैं। इनसे किसी तरह की स्पष्टता और पुष्टि नहीं की जा सकती। इनसे किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सकता।’
ईसीबी ने आगे कहा, ‘हमारी इंटीग्रटी टीम ने इस स्टिंग पर गौर किया है। हमें अपने किसी पूर्व और वर्तमान खिलाड़ी की ईमानदारी और व्यवहार पर संदेह नहीं है। ECB क्रिकेट की गरिमा को बचाने को लेकर गंभीर है।’ इसी तरह क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के CEO जेम्स सदरलैंड ने कहा, ‘क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया मैच फिक्सिंग पर 0 टॉलरेंस (बिल्कुल बर्दाश्त नहीं) रवैया अपनाता है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया खेल की गरिमा से समझौता स्वीकार नहीं है।’ सदरलैंड ने कहा, ‘क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की इंटीग्रिटी यूनिट ने इन तथ्यों का आकलन कर लिया है। हमारी टीम को भ्रष्टाचार का कोई मामला नहीं मिला है। हमारी टीम का कोई भी पूर्व और वर्तमान क्रिकेटर इस तरह के कृत्यों में शामिल नहीं रहा।’
बता दें रविवार को अल जजीरा चैनल पर मैच फिक्सिंग के दावे को लेकर एक डॉक्यूमेंट्री रिलीज की गई। ‘क्रिकेट मैच फिक्सर्स: द मुनव्वर फाइल्स’ के शीर्षक से रिलीज इस डॉक्यूमेंट्री में दावा किया गया है कि इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने 7 मैचों में, ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों ने 5 मैचों में, पाकिस्तान के क्रिकेटरों ने 3 मैचों में और 1 अन्य देश के क्रिकेटर ने फिक्सिंग की। इनमें भारत-इंग्लैंड के बीच लॉर्ड्स में खेला गया टेस्ट मैच, साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2011 में ही केप टाउन मं खेला टेस्ट मैच शामिल है।
इसके अलावा 2011 वर्ल्ड कप के 5 मैचों में और 2012 वर्ल्ड टी20 के 3 मैचों में भी फिक्सिंग का दावा किया गया है। साथ ही यह भी दावा है कि इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच 2012 में खेले गए तीनों टेस्ट मैचों में फिक्सिंग की गई। अल जजीरा को कई ऐसी फाइल मिली हैं जिसमें मुनव्वर की कॉल रिकॉर्डिंग शामिल है जिसमें उसने दिनेश खंबत को फोन किया। खंबत दिनेश कलगी का साथी रहा जिसकी साल 2014 में मौत हो गई थी।
आईसीसी की ऐंटी करप्शन यूनिट के जनरल मैनेजर एलेक्स मार्शल ने कहा कि क्रिकेट की यह वैश्विक संस्था मामले की जांच की बात कही है। उन्होंने कहा, ‘हम इस डॉक्यूमेंट्री के कॉन्टेंट को फिर से देखेंगे और हर तरह के आरोपों की जांच की जाएगी। हमारे पास खेल से भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए पहले से काफी ज्यादा संसाधन हैं।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »