संस्कृति आयुर्वेदिक Medical College एण्ड हास्पिटल का सेवाभावी प्रयास

मथुरा। संस्कृति आयुर्वेदिक Medical College एण्ड हास्पिटल के विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा पांच मई, शनिवार को जनपद मथुरा के नरी गांव में निःशुल्क चिकित्सा शिविर लगाया गया जिसमें सैकड़ों मरीज लाभान्वित हुए। डा. रामकुमार के नेतृत्व में लगाए गए इस चिकित्सा शिविर में मरीजों का परीक्षण कर उन्हें निःशुल्क दवाएं वितरित की गईं। ज्ञातव्य है कि संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल द्वारा पिछले तीन महीने में आधा दर्जन निःशुल्क चिकित्सा शिविर लगाए जा चुके हैं।

शनिवार पांच मई को डा. रामकुमार की देखरेख में मथुरा जनपद के नरी गांव में संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल द्वारा निःशुल्क चिकित्सा शिविर लगाया गया। इस शिविर में डा. अविनाश कुमार, डा. जफर आलम, डा. योगेश्वर पांडेय, डा. प्रतीक अग्रवाल और डा. सुमित अस्थाना द्वारा महिला-पुरुष और बच्चों का परीक्षण कर उनका निःशुल्क उपचार किया गया। इस चिकित्सा शिविर का लाभ लेने वाले नरी गांव के लोगों ने संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल के इस सेवाभावी कार्य की मुक्तकंठ से सराहना करते हुए कहा कि इस तरह के शिविर लगने से समय और पैसे की बचत होती है। ग्रामीणों का कहना है कि ऐसे शिविर लगते रहने चाहिए। इस अवसर पर संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल के छात्र-छात्राएं भी उपस्थित थे। शिविर के संचालक डा. रामकुमार का कहना है कि नरी में लगाए गए शिविर में सुबह से ही मरीजों का आना शुरू हो गया था। इस शिविर में लकवा, कमर दर्द, मिर्गी, मधुमेह, स्त्री रोग, श्वेत प्रदर, अस्थमा, पाइल्स, गठिया बाय, दमा, जोड़ों का दर्द, मोटापा, शिशु रोग, एसिडिटी आदि से पीड़ित मरीजों की जांच और उपचार किया गया। शिविर में मरीजों को निःशुल्क चिकित्सा परामर्श के साथ उन्हें दवाएं भी मुफ्त में प्रदान की गईं।

कुलाधिपति सचिन गुप्ता का कहना है कि संस्कृति विश्वविद्यालय मथुरा जनपद में भारतीय चिकित्सा पद्धति से लोगों को उपचार देने को प्रतिबद्ध है। आज के दौर में भारतीय चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा मिलना जरूरी है क्योंकि इससे मरीज को किसी प्रकार की कोई अन्य परेशानी नहीं होती। संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल की स्थापना का मकसद ही भारतीय चिकित्सा पद्धति को प्रोत्साहित करना है। हम चाहते हैं कि मथुरा जिले के ग्रामीणों को समय-समय पर निःशुल्क चिकित्सा लाभ मिलता रहे ताकि उनका समय और पैसा दोनों बचे।

संस्कृति विश्वविद्यालय के उप-कुलाधिपति राजेश गुप्ता का कहना है कि संस्कृति आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल, संस्कृति यूनानी मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल तथा संस्कृति होम्योपैथिक Medical College एण्ड हास्पिटल द्वारा हर महीने मथुरा के ग्रामीण क्षेत्रों में निःशुल्क चिकित्सा शिविर लगाए जाएंगे ताकि मरीजों को चिकित्सा के अभाव में इधर-उधर न भटकना पड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »