ECIL ने कहा, सैयद शुजा नाम का कोई शख्स कभी ईवीएम डिजाइनिंग टीम का हिस्सा नहीं रहा

नई दिल्‍ली। EVM बनाने वाली कंपनी ECIL ने कहा है कि सैयद शुजा नाम का कोई शख्स कभी ईवीएम डिजाइनिंग टीम का हिस्सा नहीं रहा. वहीं उस कॉलेज ने भी शुजा के दावे को खारिज करते हुए कहा कि इस नाम का कोई स्टूडेंट उसके कॉलेज में नहीं पढ़ा. इधर चुनाव आयोग ने दिल्ली पुलिस में हैकॉथन के आयोजकों के खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी है.
कॉलेज ने हैकर के दावे को किया खारिज
इस मामले में शादान कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के प्रिंसिपल डॉ. अतीक का कहना है कि 1995 से 2002 तक का कॉलेज का रिकॉर्ड चेक किया गया है. इसमें सैय्यद हैदर अहमद नाम के किसी भी स्टूडेंट का नाम नहीं है. स्टूडेंट के माता-पिता का नाम भी चेक किया गया, लेकिन रिकॉर्ड नहीं मिला. कॉलेज सैयद शुजा उर्फ सैय्यद हैदर अहमद के दावे की जांच कर रहा है. उनसे कहा गया है कि अगर उन्होंने किसी ऐसे कॉलेज से पढ़ाई की है जो शादान कॉलेज का हिस्सा है तो उसकी डिटेल भेजें. कॉलेज ने कहा कि अगर वे डॉक्यूमेंट भेजेंगे तो हम उसकी जांच करेंगे, लेकिन फिलहाल ऐसा कोई रिकॉर्ड मौजूद नहीं है.
ECIL ने कहा- शुजा कभी डिजाइनिंग टीम में नहीं रहा
लंदन में ईवीएम को हैक करने का दावा करने वाले सैय्यद शुजा के दावे को EVM बनाने वाली कंपनी ECIL (इलेक्टॉनिक कॉरपोशन ऑफ इंडिया लिमिटेड) ने भी नकार दिया है. कंपनी ने अपने रिकॉर्ड का हवाला देते हुए कहा कि इस नाम का कोई भी शख्स कभी भी डिजाइनिंग टीम का हिस्सा नहीं रहा है.
गौरतलब है कि ECIL में तकरीबन दो हजार कर्मचारी हैं. इनमें 80 फीसदी इंजीनियर ईवीएम पर ही काम कर रहे हैं. ECIL में इस नाम का कोई भी कर्मचारी नहीं मिला जो बाद में अमेरिका शिफ्ट हो गया हो.
ECI बोले, VVPAT से EVM और सुरक्षित
इधर इस मामले में मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने कहा कि सभी लोगों की तरह मैं भी उस पीसी को लेकर उत्सुक था लेकिन हैकर अपने किसी भी दावे को साबित नहीं कर सका. कुरैशी ने कहा कि ईवीएम बनाने में एक पूरी टेक्निकल टीम थी, जिसमें आईआईटी के पांच प्रोफेसर भी शामिल थे. ऐसे में ये कहना कि ईवीएम को हैक किया जा सकता है, ये पूरी तरह गलत है. कुरैशी ने कहा कि मुझे भी आयोजकों ने निमंत्रण भेजा था, लेकिन मैंने जाने से इंकार कर दिया क्योंकि मुझे अगले सप्ताह जाना है. कुरैशी ने बताया कि ईवीएम को लगातार अपडेट किया जाता है. VVPAT इसी अपडेशन का एक हिस्सा है, जिससे यह और अधिक सुरक्षित हो गया है.
कौन है भारतीय मूल का हैकर सैयद शुजा
भारतीय मूल का सैयद शुजा खुद को साइबर एक्सपर्ट बताता है. इस वक्त वो अमेरिका में रह रहा है. खुद को ईवीएम डिजाइनिंग टीम का हिस्सा बताने वाले सैयद शुजा का दावा है कि ईवीएम को हैक किया जा सकता है. 2014 में हैकिंग से बीजेपी को जीत मिली. शुजा ने ये भी दावा किया कि हाल के राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ चुनाव में भी ईवीएम हैकिंग की कोशिश हुई, लेकिन उसने इसे इंटरसेप्ट कर दिया.
बीजेपी ने कहा, कांग्रेस प्रायोजित कार्यक्रम
बीजेपी ने सीधे-सीधे हैकाथॉन को कांग्रेस प्रायोजित आयोजन बता दिया. लंदन के हैकाथॉन में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल की मौजूदगी ने बीजेपी को हमले का और मौका दे दिया. बीजेपी ने इसे कांग्रेस का प्रायोजित हैकिंग हॉरर शो बताया है.
उधर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने हैकर की प्रेस कांफ्रेंस को कांग्रेस प्रायोजित सर्कस करार दिया.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »