जन्‍माष्‍टमी पर भगवान श्रीकृष्ण के पूजन हेतु आसान मंत्र

जन्‍माष्‍टमी पर भगवान श्रीकृष्ण के पूजन हेतु कुछ आसान मंत्र हम यहां दे रहे हैं जिनसे श्रीकृष्ण की आराधना की जा सकती है। इन मंत्र के जाप से सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। शुभता बढ़ाने व सुख प्रदान करने में ये मंत्र अत्यन्त प्रभावी माने जाते हैं। मंत्र के लाभकारी प्रभावों का विवरण भी दिया जा रहा है।

 भगवान श्रीकृष्ण का मूलमंत्र :
1. ‘कृं कृष्णाय नमः’

यह श्रीकृष्ण का मूलमंत्र है। इस मूलमंत्र का जाप अपना सुख चाहने वाले प्रत्येक मनुष्य को प्रातःकाल नित्यक्रिया व स्नानादि के पश्चात एक सौ आठ बार करना चाहिए। ऐसा करने वाले मनुष्य सभी बाधाओं एवं कष्टों से सदैव मुक्त रहते हैं।

सप्तदशाक्षर श्रीकृष्णमहामंत्र :
2. ‘ऊ श्रीं नमः श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा’

दशाक्षर श्रीकृष्ण मंत्र :
3. ‘क्लीं ग्लौं क्लीं श्यामलांगाय नमः’

4. बाईस अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र :
‘ऐं क्लीं कृष्णाय ह्रीं गोविंदाय श्रीं गोपीजनवल्लभाय स्वाहा ह्‌सों।’

 

5. तेईस अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र :

‘ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीकृष्णाय गोविंदाय गोपीजन वल्लभाय श्रीं श्रीं श्री’

6. अट्ठाईस अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र :
‘ॐ नमो भगवते नन्दपुत्राय आनन्दवपुषे गोपीजनवल्लभाय स्वाहा’
………………..

7. उन्तीस अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र :
‘लीलादंड गोपीजनसंसक्तदोर्दण्ड बालरूप मेघश्याम भगवन विष्णो स्वाहा।’
………………..

8. तैंतीस अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र :
‘ॐ कृष्ण कृष्ण महाकृष्ण सर्वज्ञ त्वं प्रसीद मे। रमारमण विद्येश विद्यामाशु प्रयच्छ मे॥’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »