जम्मू-कश्मीर में पाबंदियों पर ढील: कई इलाकों में संचार सेवाएं बहाल

श्रीनगर। आर्टिकल 370 हटाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में जारी पाबंदियों में धीरे-धीरे ढील दी जा रही हैं। जम्मू में स्कूल-कॉलेज तो पहले ही खुल गए थे लेकिन अब वहां मोबाइल और इंटरनेट सेवा को भी शुरू कर दिया गया है। जम्मू में 2जी स्पीड के साथ नेट सेवा को बहाल किया गया है। कश्मीर में भी लैंडलाइन सेवा को बहाल कर दिया गया है। राज्य के मुख्य सचिव मुख्य सचिव बी. आर. सुब्रमण्यम ने राज्य में जारी पाबंदियों में ढील देने के संकेत शुक्रवार को ही दिए थे।
कश्मीर में 17 लैंडलाइन एक्सचेंज चालू
कश्मीर घाटी के 17 एक्सचेंज में लैंडलाइन सेवाएं शनिवार को बहाल कर दी गईं। अधिकारियों ने बताया कि 100 से अधिक टेलीफोन एक्सचेंज में से 17 को बहाल कर दिया गया। ये एक्सचेंज अधिकतर सिविल लाइन्स क्षेत्र, छावनी क्षेत्र, श्रीनगर जिले के हवाई अड्डे के पास है। मध्य कश्मीर में बडगाम, सोनमर्ग और मनिगम में लैंडलाइन सेवाएं बहाल की गई हैं। उत्तर कश्मीर में गुरेज, तंगमार्ग, उरी केरन करनाह और तंगधार इलाकों में सेवाएं बहाल हुई हैं। वहीं दक्षिण कश्मीर में काजीगुंड और पहलगाम इलाकों में सेवाएं बहाल की गई हैं। केन्द्र सरकार के जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के कुछ प्रावधान हटाने के बाद पांच अगस्त से ही यहां मोबाइल फोन और लैंडलाइन सेवाओं सहित टेलीफोन सेवाएं स्थगित कर दी गई थीं।
कश्मीर के 5 जिलों में अब भी पाबंदी
कश्मीर में सुरक्षा के मद्देनजर 5 जिलों में अब भी पाबंदियां लगाई गई हैं। इसके अलावा सीआरपीएफ, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सेना के जवानों को संवेदनशील इलाकों में तैनात किया गया है। शुक्रवार को पत्रकारों से बात करते हुए मुख्य सचिव सुब्रमण्यम ने कहा कि कश्मीर घाटी में शनिवार को टेलिकॉम सेवाओं को बहाल कर दिया जाएगा। इसके अलावा सोमवार से कश्मीर के स्कूल-कॉलेज भी खोल दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 22 में से 12 जिलों में हालात पूरी तरह से सामान्य हैं। इसके अलावा पांच जिलों में एहतियात के तौर पर आंशिक रूप से पाबंदी लगाई गई है।
ऊधमपुर से लेकर जम्मू तक इंटरनेट शुरू
शनिवार को मिली सूचना के अनुसार जम्मू-कश्मीर के ऊधमपुर, रियासी, कठुआ, सांबा और जम्मू शहरों में 2जी इंटरनेट सेवा शुरू की गई है। इसके साथ-साथ इन इलाकों में किसी प्रकार की पाबंदियां भी नहीं लगाई गई हैं। अधिकारियों का कहना है कि कश्मीर में इंटरनेट सेवाओं को बहाल करने का फैसला कानून व्यवस्था की स्थितियों की समीक्षा के बाद किया जाएगा। इसके अलावा हिरासत में लिए गए लोगों को भी हालात के अनुसार ही रिहा कराने पर विचार होगा।
किसी भी अप्रिय घटना की सूचना नहीं: मुख्य सचिव
शुक्रवार को ही मुख्य सचिव ने कहा था कि कश्मीर और जम्मू दोनों ही संभागों में हालात सामान्य हैं और किसी भी प्रकार की अप्रिय घटनाओं की सूचना नहीं मिली है। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में अब तक किसी भी स्थानीय नागरिक को कोई नुकसान होने की खबर नहीं है। गौरतलब है कि कश्मीर घाटी में बीते दिनों जवानों की अतिरिक्त तैनाती के बाद से ही पाबंदियां लगाई गई थीं, जिनमें समय-समय पर ढील भी दी गई। इसके अलावा पाकिस्तान की ओर से किसी आतंकी हमले की आशंका के कारण जवानों को भी पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *