सुबह-सुबह खाली पेट Coffee पीना सेहत के लिए नहीं है अच्छा

Coffee को नींद भगाने का एक अच्छा जरिया माना जाता है। यही वजह है कि कई लोग सुबह उठते ही एक कप गरम-गरम Coffee पीना पसंद करते हैं। हालांकि, ऐसा करना आपकी नींद भले ही उड़ा दे लेकिन यह हेल्थ के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है।
हॉर्मोन पर डालता है असर
एक रिसर्च के मुताबिक, खाली पेट कॉफी पीने पर शरीर में कोर्टिसोल हॉर्मोन का लेवल बढ़ जाता है। यह वह हॉर्मोन है जो मेटाबॉलिज्म, इम्यून सिस्टम और स्ट्रेस को मैनेज करने में मदद करता है। ऐसे में इसका लेवल बिगड़ना शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।
स्ट्रेस बढ़ना
Coffee के कारण बढ़े कोर्टिसोल से स्ट्रेस लेवल भी बढ़ता है। एक स्टडी में सामने आया था कि जो लोग सुबह-सुबह Coffee पीते हैं उन्हें अपने मूड स्विंग और तनाव को कंट्रोल करने में उन लोगों के मुकाबले ज्यादा परेशानी आती है जो सुबह कॉफी नहीं पीते।
पाचन बिगड़ना
खाली पेट कॉफी पीने पर शरीर में ऐसिड ज्यादा बनता है, इससे पाचन बिगड़ता है। शरीर को खाने के पोषक तत्वों को अब्जॉर्ब करने में भी परेशानी होती है, जिससे हेल्दी फूड भी बॉडी के लिए वेस्ट बन जाता है।
दिल के लिए नहीं अच्छा
एक स्टडी में पाया गया है कि सुबह-सुबह कॉफी पीना दिल की सेहत के लिए भी अच्छा नहीं है। दरअसल, जागने के बाद अमूमन हार्टबीट नॉर्मल चलती है लेकिन कॉफी पीने पर यह तेज हो जाती है। धड़कन तेज होने पर ब्लड सर्कुलेशन पर भी असर पड़ता है जो बीपी को बिगाड़ते हुए दिल के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।
शरीर की बढ़ती है डिपेंडेंसी
नींद से लेकर हर चीज को हैंडल करने का शरीर का अपना तरीका होता है, ऐसे में खुद को जगाने के लिए उठते ही पहले कॉफी पीना आपकी नींद तो उड़ा देगा लेकिन यह बॉडी की कॉफी पर डिपेंडेंसी यानी निर्भरता बढ़ा देगा। इसका सबसे बड़ा नुकसान यह होगा कि जब तक कैफीन का असर रहेगा तब तक तो आप ऐक्टिव रहेंगे लेकिन इसके बाद आपको फिर से नींद आने लगेगी।
एक्सपर्ट की मानें तो कॉफी पीने का सबसे अच्छा समय दोपहर का होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि तब तक बॉडी नैचरल तरीके से ऐक्टिव हो चुकी होती है और व्यक्ति ब्रेकफस्ट भी कर चुका होता है, जिससे गैस या ऐसिडिटी नहीं होती। देर शाम को भी कॉफी पीना अवॉइड करना चाहिए क्योंकि यह नींद को भगा सकती है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »