डॉ. उदय प्रताप सिंह बनाए गए हिंदुस्तानी एकेडमी के अध्यक्ष

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष रह चुके डॉ. उदय प्रताप सिंह को आज मुख्यमंत्री योगी आद‍ित्यनाथ ने हिंदुस्तानी एकेडमी प्रयागराज का अध्यक्ष, न‍ियुक्त क‍िया है। इस पद पर प‍िछले एक वर्ष से थे ज‍िन्हें पुनः 01 वर्ष के लिए नियुक्त करने का आदेश आज द‍िया गया।

हिंदुस्तानी एकेडमी के सहज संचालन के लिए डॉ. उदय प्रताप सिंह की न‍ियुक्त‍ि को राजभाषा हिंदी की बहुआयामी समृद्धि हेतु अच्छा संकेत माना जा रहा है।

उदय प्रताप सिंह का जन्म 1932 में मैनपुरी में हुआ। वे एक कवि, साहित्यकार तथा राजनेता हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश से वर्ष 2002-2008 के लिये समाजवादी पार्टी की ओर से राज्य सभा का प्रतिनिधित्व किया। राज्य सभा में यद्यपि उनका कार्यकाल 2008 में समाप्त हो गया तथापि पूर्णत: स्वस्थ एवं सजग होने के बावजूद समाजवादी पार्टी ने उन्हें दुबारा राज्य सभा के लिये नामित नहीं किया जबकि वे पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव के गुरू रह चुके हैं, उदय प्रताप सिंह जाति से यादव हैं।

उदय प्रताप सिंह को उनकी बेवाक कविता के लिये आज भी कवि सम्मेलन के मंचों पर आदर के साथ बुलाया जाता है। साम्प्रदायिक सद्भाव पर उनका यह शेर श्रोता बार-बार सुनना पसन्द करते हैं।

न तेरा है न मेरा है ये हिन्दुस्तान सबका है।
नहीं समझी गयी ये बात तो नुकसान सबका है॥

इसी प्रकार सत्तासीनों द्वारा शहीदों के प्रति बरती जा रही उदासीनता पर उनका यह आक्रोश उनके चेले भी बर्दाश्त नहीं कर पाते किन्तु उदय प्रताप सिंह उनके मुँह पर भी अपनी बात कहने से कभी नहीं चूकते।

कभी-कभी सोचा करता हूँ वे वेचारे छले गये हैं।
जो फूलों का मौसम लाने की कोशिश में चले गये हैं॥

उदय प्रताप सिंह उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष रह चुके हैं। सूरीनाम में 1993 के विश्व हिन्दी सम्मेलन के प्रतिनिधि मण्डल का उन्होंने नेतृत्व किया। वे देश विदेश में पिछले पैंतालिस वर्षों से कवि सम्मेलनों में जाते रहे हैं और भाषायी एकता का मुद्दा उठाते रहे हैं।

मुलायम सिंह यादव के गुरू
1960 में करहल (मैनपुरी) के जैन इण्टर कॉलेज में वीर रस के विख्यात कवि दामोदर स्वरूप ‘विद्रोही’ ने अपनी प्रसिद्ध कविता दिल्ली की गद्दी सावधान! सुनायी जिस पर खूब तालियाँ बजीं। तभी यकायक पुलिस का एक दरोगा मंच पर चढ़ आया और विद्रोही जी को डाँटते हुए बोला-“बन्द करो ऐसी कवितायेँ जो सरकार के खिलाफ हैं।” उसी समय कसे (गठे) शरीर का एक लड़का बड़ी फुर्ती से मंच पर चढ़ा और उसने उस दरोगा को उठाकर पटक दिया। विद्रोही जी ने कवि सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे उदय प्रताप सिंह से पूछा-“ये नौजवान कौन है?” तो पता चला कि यह मुलायम सिंह यादव थे जो उस समय जैन इण्टर कॉलेज के छात्र थे और उदय प्रताप सिंह उनके गुरू हुआ करते थे।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *