Dr Meeta Narain को रूस सरकार ने द‍िया सर्वोच्च सम्मान

नई दिल्ली। आज रूसी दूतावास के संस्कृति केंद्र में एक समारोह के दौरान प्रोफ़ेसर Dr Meeta Narain को रूस की सरकार ने ‘पुष्किन मेडल’ से सम्मानित किया है।

‘पुष्किन मेडल’ किसी भारतीय को रूसी भाषा में योगदान के लिए दिए जाने वाले सर्वोच्च सम्मान है , श्रीमती नारायण ने इसे श्री बाँके बिहारी जी की अनुकंपा बताया। प्रोफ़ेसर मीता नारायण द ब्रज फ़ाउंडेशन के अध्यक्ष विनीत नारायण की धर्मपत्नी हैं ।

वे विगत 35 वर्षों से दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में रूसी भाषा पढ़ा रही हैं । रूस में साम्यवाद ख़त्म होने के बाद भी रूसी भाषा का पाठ्यक्रम सारी दुनिया में साम्यवादी कलेवर लिए हुए था । डॉक्टर मीता नारायण ने वर्षों मेहनत करके स्नातक छात्रों के लिए आधुनिक संदर्भ में नई पाठ्यपुस्तकें लिखीं । जो आज भारत ही नहीं रूस, यूरोप ,अमरीका, कनाडा तक के विश्वविद्यालयों के रूसी भाषा विभागों में पढ़ाई जा रही हैं । इस संदर्भ में श्रीमती नारायण को इन विश्विद्यालयों में व्याख्यान देने व अल्पकालिक कोर्स पढ़ाने प्रायः बुलाया जाता है ।

दिल्ली के सबसे प्रतिष्ठित माडर्न स्कूल की मेधावी छात्रा रहीं मीता जी बचपन से ही हर वर्ष टॉपर रही हैं । उन्हें भारत सरकार के मानव संसाधान मंत्रालय का मेधावी छात्र वज़ीफ़ा भी मिलता रहा है ।

अपने अतिव्यस्त अकादमिक जीवन में भी वे प्रातः अपने घर लड्डूगोपाल जी का नित्य नया शृंगार व अर्चना करके ही घर से निकलती हैं । वे श्री नारायण के ब्रज सेवा के कार्यों में भी दिल्ली कार्यालय में पूर्ण सहयोग करती हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »