डॉ. कांता प्रसाद शर्मा का शोध 10 इंटरनेशनल journals में प्रकाशित

मथुरा। GL बजाज के प्राध्यापक सिर्फ छात्र-छात्राओं के शैक्षिक स्तर पर ही ध्यान नहीं देते बल्कि समाज से जुड़ी महत्वपूर्ण गतिविधियों पर भी निरंतर शोध करते रहते हैं। हाल ही यहां अध्यापन कार्य कर रहे डॉ. कांता प्रसाद शर्मा का रियल टाइम लैण्ड नेवीगेशन पर किया गया शोध 10 अंतर्राष्ट्रीय journals में प्रकाशित हुआ है। डॉ. शर्मा की इस शानदार उपलब्धि पर आर. के. एजुकेशन हब के अध्यक्ष डाॅ. रामकिशोर अग्रवाल, उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल तथा संस्थान के निदेशक डाॅ. एलके त्यागी ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए इन्हें बधाई दी है।

डॉ. शर्मा ने अपने शोध में रियल टाइम लैण्ड नेवीगेशन में लोकेशन अनिश्चितता के शुद्धिकरण पर अपनी कलन विधि (मैप मैचिंग एल्गोरिथम) के द्वारा गूगल मैप पर जीपीएस की कमियों का निवारण किया है। यह शोध स्मार्ट सिटी, वीवीआईपी सुरक्षा, स्मार्ट ट्रांसपोर्ट सिस्टम तथा नेवीगेशन में अति कारगर साबित होगा। इस शोध में डॉ. शर्मा ने बताया कि जीपीएस की सिग्नलिंग की प्रक्रिया हाई-फ्रीक्वेंसी पर विश्वसनीय नहीं है, जिसके कारण रियल टाइम लैण्ड नेवीगेशन में सही जानकारी नहीं मिल पाती, साथ ही गूगल मैप पर जूम करने से सही लोकेशन का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। डॉ. शर्मा के शोध का उद्देश्य भविष्य में भारत सरकार के सेटेलाइट (आईआरएनएसएस) की सिग्नलिंग सुविधा के साथ जीपीएस की निर्भरता को समाप्त करना है।

डॉ. शर्मा ने अपना शोध करते हुए इसरो लैबोरेट्री में प्रयोग करके यह समाधान निकाला कि भविष्य में जीपीएस को भारत से नेवीगेशन के लिए समाप्त किया जाएगा। इस शोध में डॉ. शर्मा का मार्गदर्शन डॉ. रमेश चंद्र पूनिया तथा इसरो के साइंटिस्ट डॉ. सुरेन्द्र सुंडा ने किया। इस शोध के लिए डॉ. कांता प्रसाद शर्मा ने दुबई, वियतनाम, ओमान, मलेशिया की यात्राएं करने के साथ ही लगभग एक दर्जन अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में अपना व्याख्यान भी दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *