बेंगलुरु के सेंट्रल जेल से दर्जनों चाकू-छुरी बरामद

बेंगलुरु। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में पुलिस के उस वक्त होश उड़ गए, जब जेल में मारे गए छापे के दौरान दर्जनों चाकू-छुरी बरामद हुई। बेंगलुरु पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बुधवार सुबह सेंट्रल जेल में छापा मारा। इस दौरान पुलिस को कैदियों के पास से कई मोबाइल फोन और नशीले पदार्थ भी मिले हैं। बता दें कि इसी जेल में तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता की करीबी शशिकला भी सजा काट रही हैं।
बताया जा रहा है कि परप्पना अग्रहारा सेंट्रल जेल में पुलिस को अनियमितताओं की जानकारी मिली थी। इसके बाद सिटी पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जेल में छापा मारा। अचानक पड़े छापे से कैदियों में हड़कंप मच गया। जेल के अंदर से 37 चाकू-छुरियों के अलावा भांग, धूम्रपान करने का पाइप भी पुलिस ने बरामद किया। यही नहीं, कई मोबाइल फोन और सिम कार्ड भी मौके से मिले हैं।
जॉइंट सीपी (क्राइम) संदीप पाटिल के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच के तकरीबन 60 पुलिस कर्मी इस ऑपरेशन में शामिल हुए। पाटिल का कहना है कि जेल में गड़बड़ियों की शिकायत मिलने के बाद छापे मारे गए। परप्पना अग्रहारा कारागार की राज्य की सबसे बड़ी जेल में गिनती होती है। बताया जाता है कि इस जेल में 4 हजार से ज्यादा कैदी बंद हैं। इस जेल में एआईएडीएमके की पूर्व महासचिव शशिकला भी सजा काट रही हैं। आय से ज्यादा संपत्ति के मामले में उन्हें सुप्रीम कोर्ट से चार साल कैद की सजा हुई थी।
शशिकला को वीआईपी ट्रीटमेंट का आरोप
दो साल पहले आईपीएस अधिकारी डी रूपा ने भी इस जेल में गड़बड़ियों का मामला उठाया था। तत्कालीन डीआईजी जेल रूपा ने आरोप लगाया था कि दो करोड़ रुपये देने के बदले शशिकला को जेल में वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जा रहा है। रूपा ने आरोप लगाया था कि जेल के कई सीनियर स्टाफ गैरकानूनी गतिविधियों की इजाजत दे रहे हैं। डीजी और आईजी को लिखे खत में रूपा ने कहा कि शशिकला को खाना पकाने के लिए अलग से कमरा दिया गया है।
रूपा ने अपने लेटर में लिखा, ‘जेल के नियमों के उल्लंघन के मामले आपके समक्ष आ चुके हैं। यह भी कहा जा रहा है कि इसके लिए 2 करोड़ रुपये की घूस दी गई। मेरी आपसे दरख्वास्त है कि आप इस मामले पर जल्द से जल्द कार्यवाही करें और नियम तोड़ने वाले लोगों को सजा दी जाए।’ हालांकि डीजी जेल सत्यनाराण राव ने किसी भी कैदी को वीआईपी ट्रीटमेंट की बात से इनकार किया था। मामले को सामने लाने के बाद आईपीएस रूपा का रोड सेफ्टी ऐंड ट्रैफिक विभाग में ट्रांसफर हो गया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »