चीन का बढ़ते प्रभाव को काउंटर करने के लिए डॉनल्ड ट्रंप ने बनाया प्लान

न्यू यॉर्क। एशिया समेत बाकी महाद्वीपों पर चीन का बढ़ता प्रभाव हमेशा से अमेरिका की चिंता रहा है। इसे काउंटर करने के लिए अब राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने प्लान बनाया है। ट्रंप का यह प्लान चीन की वन बेल्ट वन रोड योजना को चुनौती देगा। इस योजना के तहत अब अमेरिका भी चीन की तरह विकासशील देशों को फंड देकर उनकी मदद करेगा।
क्या है योजना
ट्रंप ने नई यूएस इंटरनेशनल डिवेलपमेंट फाइनैंस कॉर्पोरेशन बनाई है। ये विकासशील देशों में चल रहे प्रोजेक्ट्स को 60 बिलियन डॉलर तक का कर्ज दे सकेगी। यह पैसा लोन, लोन गारंटी और कंपनियों को बीमे के तौर पर दिए जाएंगे। दरअसल, अब तक ट्रंप फॉरन ऐड के खिलाफ थे। विदेशी मदद में उन्होंने 3 बिलियन डॉलर तक की कटौती करने का प्रस्ताव भी रखा था। अपने चुनावी प्रचार में भी उन्होंने इसका कड़ा विरोध किया था, लेकिन अब चीन को काउंटर करने के लिए उन्होंने यू टर्न लिया है।
चीन के एशिया, अफ्रीका, यूरोप में बढ़ते प्रभाव से अमेरिका चिंतित है। पिछले 5 सालों से चीन इन जगहों पर बड़े प्रोजेक्ट्स में अपना पैसा लगा रहा है। इसके अलावा चीन मुख्य तौर पर पाकिस्तान और नाइजीरिया को फंडिंग दे रहा है। इसके साथ ही चीन ऐसे देशों को भी जाल फेंकता है जिससे उसे आनेवाले दिनों में राजनीतिक फायदा हो सकता है। लोन, ग्रांट्स और इन्वेस्टमेंट के लिए पैसे देकर चीन अफ्रीका आदि को अपनी तरफ करने में जुटा हुआ है। जिबूती और श्रीलंका को फंसाने के प्लान पर वह पहले से काम कर रहा है। चीन की चाल पाकिस्तान, श्री लंका, मालदीव, जिबूती, म्यांमार जैसे देशों को समझ तो आ रही है, लेकिन वे कुछ कर नहीं पा रहे।
बता दें कि ‘एक क्षेत्र एक सड़क’ (ओबीओआर) परियोजना चीन की महत्वाकांक्षी योजना है। इसका निर्माण सिल्क रोड के तर्ज पर किया जा रहा है। अगर फंड से मुकाबले की बात करें तो ट्रंप की योजना एक खरब डॉलर से ज्यादा की OBOR के सामने कहीं से कहीं तक नहीं टिकती। लेकिन जिन देशों का चीन भरोसा खो चुका है, उन्हें अब अमेरिका से मदद मिल सकेगी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »