नवाज शरीफ का Treatment कर रहे डॉक्टर को हार्ट अटैक, मौत

रावलपिंडी।  दो दिन पहले रविवार को पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की Treatment करने वाले डॉक्टर एजाज कदीर की हार्ट अटैक से मौत हो गई। बताया जा रहा है जिन डॉक्टरों की टीम नवाज शरीफ का इलाज कर रही है वह उसके प्रमुख थे। भ्रष्टाचार के आरोप में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद हैं।
जानकारी के मुताबिक डॉक्टर कदीर पाकिस्तान आयुर्विज्ञान संस्थान में काम करते थे। उन्होंने जेल में शरीफ के स्वास्थ्य की Treatment की थी। उन्हें पहले भी एक बार दिल का दौरा पड़ चुका है और दो स्टेंट भी लगे हैं।

गौरतलब है कि जेल में शरीफ की तबीयत बिगड़ने की वजह से उनके लिए मेडिकल बोर्ड गठित किया गया था। उनके स्वास्थ्य की जांच के लिए गठित इस मेडिकल बोर्ड में डॉक्टर कदीर के अलावा डॉ. नईस मलिक, डॉ. शाजी सिद्दिकी, डॉ. सोहेल तनवीर और डॉ. मसूद शामिल हैं।

कल ही नवाज़ शरीफ को आईसीयू में ले जाने की सलाह दी थी

जेल सूत्रों हवाले से कहा गया कि शरीफ ने सीने में दर्ज की शिकायत की, जिसके बाद डॉक्टरों ने पूर्व प्रधानमंत्री का चेक-अप किया और उन्हें तत्काल कोरोनेरी केयर यूनिट (सीसीयू) में भर्ती कराने की सलाह दी।
जेल अधीक्षक ने अंतरिक सरकार से संपर्क किया, जिसके बाद शरीफ को पीआईएमएस में भर्ती कराया गया। 24 जुलाई को शरीफ के स्वास्थ्य की जांच के लिए गठित एक मेडिकल बोर्ड ने कहा था कि तीन बार के प्रधानमंत्री को लगातार मेडिकल देखभाल की जरूरत है। पाकिस्तान की कार्यवाहक सरकार ने ईसीजी और ब्लड रिपोर्ट आने के बाद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को रविवार को अदियाला जेल से इस्लामाबाद के पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में भर्ती कराने का फैसला किया है।

यह फैसला पंजाब सरकार ने लिया क्योंकि अदियाला जेल उसके प्रशासनिक नियंत्रण में है। डाक्टरों की एक टीम ने सिफारिश की थी कि शरीफ को उचित चिकित्सा एवं देखभाल की जरूरत है। पंजाब के गृहमंत्री शौकत जावेद ने कहा कि शरीफ को इस्लामाबाद के पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में भर्ती कराया जाएगा।

वहां पर हाई प्रोफाइल कैदी के लिए तैयारी कर ली गयी है। इससे पहले एक अधिकारी ने कहा था कि जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को दिल संबंधी परेशानियों की वजह से तत्काल अदियाला जेल से अस्पताल के आईसीयू में भर्ती करने की जरूरत है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »