क्‍या आप सुसाइड फॉरेस्ट के बारे में जानते हैं?

जापान का ऐकिगहारा जंगल को सुसाइड फॉरेस्ट भी कहा जाता है। दरअसल, यह जंगल है तो बहुत सुंदर लेकिन जानलेवा भी है। यहां बड़ी संख्या में आकर लोग आत्महत्या करते हैं, जिस वजह से इसे सुसाइड फॉरेस्ट यानी आत्महत्या का जंगल के नाम से भी जानते हैं। यह जंगल जापान के फूजी पर्वत की तराई में 30 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। आइए आज इसके बारे में कुछ रोचक बातें जानते हैं…
जाकर वापस लौटना मुश्किल
फूजी पर्वत की तराई में स्थित ऐकिगहारा में पेड़ों का जाल है। जंगल काफी घना है और पथरीली जमीन है। मिट्टी इतनी घनी और टाइट है कि उसमें खुदाई भी नहीं हो सकती। पेड़ इतने घने हैं कि वहां सूरज की रोशनी तक नहीं पहुंचती। मिट्टी में लोहा के अवसाद जमा होने की वजह से जीपीएस और सेल फोन भी काम नहीं करते। ऐसे में वहां जाकर खो जाना आम सी बात है।
कोई जानवर नहीं पाया जाता
जंगल काफी घना है और जानवरों के लिए कुछ खाने-पीने को भी नहीं है। इस वजह से वहां कोई भी जानवर नहीं पाया जाता। जंगल के घना होने की वजह से वहां पक्षी भी नहीं होते।
सबसे ज्यादा आत्महत्या के मामले में दूसरे नंबर पर
अपने पेड़ों और बर्फीली गुफाओं के लिए प्रसिद्ध ऐकिगहारा आत्महत्या के लिए बदनाम है। अनुमान है कि दुनिया में यह दूसरा स्थान है जहां खुदकुशी के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं। पहले नंबर पर गोल्डन गेट ब्रिज है। ऐसा माना जाता है कि हर साल करीब 100 लोग इस जंगल में आत्महत्या करते हैं।
प्रेत का साया
जापान की लोककथाओं में कहा जाता है कि जंगल में भूत-प्रेत का साया है। वहां भूत-प्रेत को यूरे के नाम से जाना जाता है।
कथाओं के मुताबिक भूत पीली महिला के शक्ल में होते हैं जिसने सफेद गाउन पहन रखा होता है और उसके लम्बे-लम्बे काले बाल होते हैं। ऐसा माना जाता है कि आत्महत्या करने वाले लोगों की आत्मा अपने पूर्वजों की आत्माओं के साथ नहीं रह सकती हैं, इसलिए ये आत्माएं जंगल में इकट्ठा हो जाती हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »