क्या आप भी टूथ ब्रशिंग को सिर्फ एक रूटीन का हिस्सा मानते हैं?

क्या आप भी टूथ ब्रशिंग को सिर्फ एक डेली रूटीन का हिस्सा मानकर यूं ही जल्दबाजी में ब्रश कर लेते हैं? क्या आप रात में सोने से पहले अक्सर ब्रश करना भूल जाते हैं? क्या वीकेंड पर आलस फील होने पर बिना ब्रश किए ही ब्रेकफास्ट कर लेते हैं? अगर इन सब सवालों का जवाब हां है तो आपके लिए एक बुरी खबर है। हाल ही में हुई एक स्टडी में यह बात सामने आयी है कि खराब ओरल हेल्थ की वजह से लिवर कैंसर का खतरा 75 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।
यूके के बेल्फास्ट स्थित क्वीन्स यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने यूके 4 लाख 70 हजार लोगों पर एक स्टडी की और उनसे एकत्र किए गए डेटा की जांच की गई। इस स्टडी में ओरल हेल्थ कंडीशन और पेट से जुड़े कई तरह के कैंसर जिसमें लिवर कैंसर, रेक्टम कैंसर और पैन्क्रिआटिक कैंसर के रिस्क के बीच क्या कनेक्शन है, यह जानने की कोशिश की गई। स्टडी में पता चला कि मुंह से जुड़ी कॉमन समस्याएं जैसे मुंह के छाले, मसूड़ों से खून आना और ढीले दांत जैसी समस्याओं और कैंसर रिस्क के बीच रिलेशन है।
स्टडी के नतीजे
हालांकि पेट से जुड़े बाकी कैंसर और खराब ओरल हेल्थ के बीच कोई अहम लिंक नहीं मिला लेकिन हेपाटोबाइलरी कैंसर और ओरल हेल्थ के बीच अहम लिंक नजर आया।
इतना ही नहीं, मुंह के खराब स्वास्थ्य की वजह से कैंसर के अलावा हार्ट डिसीज, स्ट्रोक और डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है। 6 साल तक इस स्टडी का फॉलोअप किया गया जिसमें यह बात सामने आयी कि स्टडी में शामिल 4 लाख 70 हजार पार्टिसिपेंट्स में से 4 हजार 69 लोगों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर पाया गया। हालांकि इनमें से सिर्फ 13 प्रतिशत लोगों में खराब ओरल हेल्थ की समस्या थी।
माइक्रोब्स की वजह से बीमारी का खतरा
खराब ओरल हेल्थ और लिवर कैंसर के बीच कैसा लिंक है इस बारे में कोई खास जानकारी नहीं मिल पायी है। एक संभावित कारण मुंह और आंत में मौजूद माइक्रोब्स हो सकते हैं जो इस बीमारी को बढ़ाते हैं। लिवर हमारे शरीर के इंजन की तरह है जो शरीर से बैक्टीरिया और टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है लेकिन जब लिवर खुद बीमार हो जाता है जैसे हेपेटाइटिस, लिवर कैंसर या लिवर सिरॉसिस जैसी समस्याओं की वजह से तो लिवर का फंक्शन घट जाता है जिससे लिवर शरीर में लंबे समय तक रुक कर और ज्यादा नुकसान पहुंचाता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »