कोरोना काल में फेफड़ों के ल‍िए करें ये तीन योगासन

व‍िश्व भर में हेल्थ एक्सपर्ट्स कह रहे हैं क‍ि करोना वायरस का सबसे ज्यादा प्रभाव फेफड़ों पर पड़ता है जिससे पेशेंट को सांस लेने में तकलीफ होती है, सांस फूलने लगती है। ऐसे में हमें योगासन की ओर ही मुड़ कर देखना चाह‍िए क्योंक‍ि योग एक ऐसा माध्यम है ज‍िससे रोग को ब‍िना साइड इफेक्ट के दूर क‍िया जा सकता है। कुछ ऐआसन हैं जो फेफड़ों की कार्य क्षमता को बढ़ा देंगे, ताकि आप कोरोना वायरस से लड़ने के लिए पूरी तरह तैयार रहें।

उष्ट्रासन

उष्ट्रासन करने से फेफड़ों को ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन मिलती है। अगर आपको किसी तरह की घुटनों की प्रॉब्लम है तो यह आसन ना करें। इस आसन को करने के लिए-

सबसे पहले वज्रासन में बैठ जाएं।
उसके बाद अपने नितंबों को एड़ियों से ऊपर की ओर उठाएं
अपने घुटनों में एक से 2 इंच का गैप करें अब श्वास भरते हुए धीरे धीरे अपने हाथों को एक-एक करके पीछे की ओर ले जाएं और अपनी एड़ियों को पकड़ने की कोशिश करें।
इसके साथ-साथ आपकी गर्दन पीछे की ओर और आपका पेट और वक्षस्थल आगे की ओर बाहर की ओर फैला दें और पीछे जाते हुए श्वांस को छोड़ दें।
आंखें खुली रखें कुछ देर जितनी आपकी यथाशक्ति हो रुकें।
फिर पहले गर्दन को ऊपर लाएं और एक-एक करके हाथों को भी ऊपर ले आएं और पहले वाली स्थिति में आ जाएं यानी वज्रासन में बैठें।

फिर शशांक आसन करें जिसमें दोनों पैरों के अंगूठे मिले और घुटने पूरी तरह से खोलते हुए अपनी बॉडी को आगे की ओर झुका दें।
आपकी दोनों भुजाएं सामने की ओर रीढ़ की हड्डी को सीधा करते हुए चिन (ठुड्डी) या माथे को फर्श पर या चटाई पर लगाएं।

धनुरासन

इस आसन के लिए चटाई पर उल्टा लेट जाएं आप की ठुड्डी (Chin) मैट पर हो और दोनों पैर मिले हुए और सीधे रहें।
अब अपने पैरों को घुटनों से मोड़ते हुए अपने नितंब तक लाएं और अपने हाथों से पैरों की एंकल को पकड़ने की कोशिश करें।
फिर अपने दोनों पैरों को श्वास भरते हुए बाहर की ओर खींचे ऐसा करने से आपकी गर्दन और छाती पूरी तरह से ऊपर उठ जाएगी।
ज्यादा से ज्यादा अपने पैरों को ऊपर की ओर ले जाएं यहां पर आपका पूरा बैलेंस आपके पेट पर हो आपकी दोनों भुजाएं बिल्कुल सीधी हो गर्दन ऊपर की ओर हो।
अब धीरे से नीचे आएं और पहले वाली स्थिति में आ जाएं।
अपनी स्पाइन पर पड़े एक्स्ट्रा लोड को कम करने के लिए इस आसन के बाद आप पवनमुक्तासन जरूर करें ।
इस आसन को आप 10 से 15 बार करें और ज्यादा से ज्यादा श्वास को फेफड़ों में रोकने की कोशिश करें।

भुजंगासन

भुजंगासन को करने के लिए अपने मैट पर उल्टा लेट जाएं।
अपनी एड़ियों और पैरों को मिला लें अब अपनी दोनों हथेलियों को अपने कंधों के बराबर लाकर मैट पर रख दें।
अब धीरे से अपने हाथों पर वजन डालते हुए अपने कंधों और गर्दन को ऊपर की ओर श्वास भरते हुए उठाएं।
आपकी गर्दन आकाश को देखते हुए जितनी यथाशक्ति हो श्वास को रोककर रखें।
फिर श्वास को छोड़ते हुए धीरे-धीरे नीचे आएं ऐसा आप 10 से 20 बार करें और अधिक से अधिक रुकने का प्रयास करें।

Lifestyle Desk: Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *