विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में असंतोष, Rahul Gandhi से शिकायत

Rahul Gandhi की पार्टी में अनुशासनहीनता बढ़ने के साथ वरिष्‍ठ नेताओं के बीच अहंकार भी चरम पर

नई दिल्‍ली। कांग्रेस अध्‍यक्ष Rahul Gandhi से शिकायत की गई है कि आने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की मजबूत दावेदारी मानी जा रही है। माना जा रहा है कि मध्‍य प्रदेश के साथ-साथ राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ में भी वह सत्‍तारूढ़ बीजेपी को कड़ी टक्‍कर देने के लिए तैयार है लेकिन पार्टी के भीतर मचा घमासान नई मुसीबतों का कारण बन सकता है। बताया जा रहा है कि पार्टी में अनुशासनहीनता बढ़ती जा रही है, जबकि वरिष्‍ठ नेताओं के बीच अहंकार भी चरम पर है। ऐसे में पार्टी को नई समस्‍याओं से दो-चार होना पड़ सकता है।

कांग्रेस अध्‍यक्ष Rahul Gandhi से भी इस संबंध में शिकायत की गई है। समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, विभिन्‍न राज्‍यों से कांग्रेस के जिला अध्‍यक्षों ने पार्टी अध्‍यक्ष तक यह शिकायत पहुंचाई है। इसके मुताबिक, पार्टी कैडर में जहां अनुशासनहीनता बढ़ रही है, वहीं वरिष्‍ठ नेताओं में अहंकार और लॉबिंग भी बढ़ती जा रही है। इससे पार्टी के लिए नई परेशानियां सामने आ रही हैं।

सूत्रों के अनुसार, पार्टी संगठन में जमीनी हालात का जायजा लेने के लिए Rahul Gandhi पार्टी के सदस्‍यों से लगातार संपर्क में हैं। इसी क्रम में कांग्रेस के जिला प्रमुखों ने उन्‍हें वरिष्‍ठ नेताओं में बढ़ते अहंकार व अनुशासनहीनता के बारे में बताया। पश्चिम बंगाल में जलपाईगुड़ी की कांग्रेस यूनिट के साथ-साथ ओडिशा की पार्टी इकाई ने भी इस संबंध में शिकायत की है।

जलपाईगुड़ी कांग्रेस यूनिट का जहां कहना है कि कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता आम लोगों से मिलने-जुलने में रुचि नहीं ले रहे हैं, वहीं ओडिशा इकाई ने भी कहा कि पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं से संपर्क हो पाना मुश्किल होता है। जलपाईगुड़ी कांग्रेस यूनिट के एक सदस्‍य ने तो कांग्रेस अध्‍यक्ष को पश्चिम बंगाल से ही चुनाव लड़ने की सलाह भी दे डाली।

पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं में समन्‍वय की कमी की शिकायत तेलंगाना की वारंगल जिला इकाई ने भी की है। बताया जाता है कि कांग्रेस अध्‍यक्ष ने इन शिकायतों को गंभीरतापूर्वक सुना और उन्‍हें आश्‍वस्‍त किया कि वह इन्‍हें दूर करने की कोशिश करेंगे। जिला कांग्रेस कमेटी को सशक्‍त बनाते हुए कांग्रेस अध्‍यक्ष ने यह भी कहा कि अनुशासनहीनता के मामलों को राज्‍य इकाई के पास भेजा जाना चाहिए और अगर वहां कार्रवाई नहीं होती है तो जिला प्रमुख इस संबंध में कदम उठा सकेंगे।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *