दोहा और अरब देशों के बीच जारी संकट के समाधान को बातचीत

दोहा और अरब देशों के बीच चल रहे मौजूदा संकट पर चर्चा करने के लिए क़तर के नेता ने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस के साथ बातचीत की है.
सऊदी की समाचार एजेंसी एसपीए के अनुसार अमीर शेख़ तमीम बिन हमाद अल-थानी ने कहा कि वो सऊदी और तीनों अन्य अरब देशों द्वारा जारी की गई मांगों पर चर्चा करना चाहते हैं.
सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने क़तर पर चरमपंथ का समर्थन करने के आरोप लगाते हुए 5 जून को सभी संबंध समाप्त कर लिए थे.
वहीं क़तर ने इन तमाम आरोपों से इंकार करता रहा है.
क़तर के नेता ने सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से शुक्रवार को फोन पर बातचीत की. एसपीए की रिपोर्ट के अनुसार बातचीत के दौरान क़तर के अमीर ने चारों अरब देशों के साथ बैठकर बात करने की इच्छा ज़ाहिर की है.
समाचार एजेंसी ने बताया कि इस संबंध में अधिक जानकारी सऊदी अरब के बहरीन, मिस्र और यूएई के साथ हुए क़रार के मद्देनज़र ही मिल पाएगी.
ट्रंप की पहल पर हुई बात
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा सऊदी अरब और क़तर के नेताओं से अलग-अलग बात करने के बाद इन दोनों देश के नेताओं ने फ़ोन पर बात की है.
व्हाइट हाउस द्वारा जारी किए गए एक बयान में बताया गया कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने खाड़ी क्षेत्र में स्थिरता बनाए रखने और ईरान के ख़तरे को कम करने लिए अरब राष्ट्रों की एकता पर जोर दिया है.
सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र और यूएई ने क़तर पर लगे प्रतिबंधों को हटाने के लिए कुछ शर्तें रखी हैं. इन शर्तों में अल-जज़ीरा समाचार चैनल को बंद करना और ईरान के साथ संबंधो को कम करना शामिल है.
इन चार अरब राष्ट्रों ने अल जज़ीरा समाचार चैनल पर चरमपंथी को बढ़ावा देने के आरोप लगाए हैं.
क़तर मे चल रहे संकट को समाप्त करने की तमाम कूटनीटिक कोशिशें अभी तक कामयाब नहीं हो सकी हैं.
-BBC