मरीजों की परेशानी का तत्परता से करें निदानः डॉ. रामकिशोर

ब्रज क्षेत्र में जलजनित बीमारियों जैसे डेंगू, चिकनगुनिया, कालाजार, स्क्रब टाइफस और लेप्टोस्पायरा के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में इलाज के न केवल समुचित प्रबंध किए गए हैं बल्कि मरीजों को बहुत ही रियायती दरों में सभी तरह की जांच और उपचार की सुविधाएं भी मुहैया कराई जा रही हैं।

आर.के. एज्यूकेशनल ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अग्रवाल ने ब्रज क्षेत्र में जलजनित बीमारियों की चपेट में आ रहे मरीजों को देखते हुए के.डी. हॉस्पिटल के चिकित्सकों और अन्य चिकित्सा कर्मियों को बेहतर से बेहतर जांच और उपचार के निर्देश दिए हैं। डॉ. अग्रवाल ने डेंगू, चिकनगुनिया, कालाजार, स्क्रब टाइफस और लेप्टोस्पायरा के मरीजों की जांच और उपचार में तत्परता बरते जाने तथा उन्हें विशेष रियायत देने के भी निर्देश दिए हैं। प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने ब्रजवासियों से आग्रह किया है कि वह किसी भी बीमारी को हल्के में न लें। बुखार या अन्य परेशानी होने पर तत्काल जांच और उपचार जरूर कराएं।

के.डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर की विभागाध्यक्ष पैथोलॉजी और निदेशक लैबोरेट्री डॉ. सीमा चौहान का कहना है कि हमारे यहां डेंगू, चिकनगुनिया, कालाजार, स्क्रब टाइफस और लेप्टोस्पायरा बीमारियों के जांच और उपचार की सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। डॉ. चौहान का कहना है कि यहां की आधुनिकतम उपकरणों से सज्जित प्रयोगशाला में हर जांच बहुत ही कम समय और रियायती दरों में की जा रही है। डेंगू से संक्रमित होने पर प्लेटलेट्स की संख्या कम होने लगती है लिहाजा बुखार आते ही जांच जरूर करा लें। डॉ. चौहान का कहना है कि के.डी. हॉस्पिटल में मौसमजनित हर बीमारी के जांच की बहुत ही रियायती दर पर व्यवस्था है।

के.डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के मेडिसिन विशेषज्ञों का कहना है कि डेंगू होने पर बुखार के अलावा सिर, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द भी होता है। इसके अलावा आंखों के पिछले हिस्से में दर्द, कमजोरी, भूख न लगना, गले में दर्द होना, मुंह का स्वाद खराब हो जाना और शरीर पर रैशेज जैसे लक्षण भी नजर आ सकते हैं। डेंगू के ज्यादातर लक्षण आम वायरल फीवर जैसे ही होते हैं, इसलिए कई बार बुखार आने पर लोग वायरल समझ कर नजरअंदाज़ी करते हैं, जोकि उचित नहीं है। चिकित्सकों का मानना है कि जो शख्स डेंगू से पीड़ित होता है, उसके शरीर में काफी मात्रा में डेंगू वायरस पाया जाता है, जिसका समय से उपचार बहुत जरूरी है।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *