धरना पोलिटिक्‍स: ‘पहले आप, पहले आप’ पर अटकी गाड़ी, सिसोदिया और जैन अस्पताल से डिस्चार्ज

नई दिल्ली। दिल्ली में एलजी ऑफिस के अंदर आम आदमी पार्टी (AAP) का धरना नाटकीय मोड़ पर जा फंसा है। सीएम केजरीवाल धरना खत्म करने और आईएएस एसोसिएशन बातचीत को राजी है, लेकिन स्थिति ‘पहले आप, पहले आप’ पर अटकी है। इस बीच धरने पर बैठे डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद काम पर लौटने की तैयारी में हैं। अब केवल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और परिवहन मंत्री गोपाल राय ही धरने पर बचे हैं।
दिल्ली की AAP सरकार द्वारा दी गई सुरक्षा की गारंटी पर आईएएस अफसरों ने सकारात्मक संकेत दिए हैं और सीधे सीएम से बातचीत के इच्छुक हैं। उधर AAP ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गेंद को एलजी के पाले में डाल दिया है। पार्टी ने कहा कि जब सीएम और अधिकारी बात करने को तैयार हैं तो एलजी जल्द ही इस मसले पर बैठक बुलाएं और गतिरोध खत्म करें।
AAP का फिर एलजी पर हमला
AAP ने एक बार फिर केंद्र सरकार और एलजी पर हमला बोलते हुए कहा कि लोकतंत्र बातचीत और संवाद से चलता है लेकिन एलजी बात करने को तैयार नहीं हैं। AAP नेता संजय सिंह ने पीसी में कहा, ‘अभी भी देर नहीं हुई है। दिल्ली की सरकार, सीएम और अधिकारी सब बात को तैयार हैं तो एलजी दोनों पक्षों की बैठक बुलाएं। चार महीने से जो गतिरोध चल रहा है उसे खत्म करवाएं।’
सिसोदिया को अस्पताल से मिली छुट्टी, काम पर लौटेंगे
इधर, दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन दोनों को मंगलवार को हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई है। सिसोदिया ने जल्द ही काम पर लौटने की बात भी कही है। डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर खुद के सेहत में तेजी से सुधार होने की जानकारी देते हुए कहा कि अगर डॉक्टर उन्हें इजाजत देंगे तो वह आज से काम पर लौटेंगे।
धरने पर अब केवल केजरीवाल और गोपाल राय
अब एलजी हाउस पर धरना देनेवालों में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और गोपाल राय ही बचे हैं। IAS असोसिएशन ने एक चिट्ठी लिख सीधे सीएम केजरीवाल से बात करने की बात कही है। गौरतलब है कि सिसोदिया और जैन दोनों सीएम अरविंद केजरीवाल के साथ एलजी हाउस में धरने पर बैठे हुए थे, वहीं पर इनकी तबीयत बिगड़ गई। आपको बता दें कि यह धरना आईएएस अफसरों की कथित हड़ताल खत्म करवाने और एलजी से कुछ फाइलों पर साइन करवाने के लिए पिछले नौ दिनों से जारी है।
सोमवार को तबीयत बिगड़ने के बाद मनीष सिसोदिया को एलएनजेपी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था। एलजी के घर सिसोदिया का चेकअप करने पहुंची टीम ने पाया था कि उनका कीटोन लेवल 7.4 तक पहुंच गया था। सिसोदिया से पहले दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की तबीयत बिगड़ गई थी। उनका भी कीटोन लेवल बढ़ गया था।
बता दें कि AAP सरकार ने अपनी तरफ से अफसरों को सुरक्षा की गारंटी दी है, जिसका आईएएस अफसरों ने स्वागत किया है। अब गेंद उपराज्यपाल अनिल बैजल के पाले में है क्योंकि दिल्ली सरकार चाहती है कि आईएएस अफसरों के साथ उनकी मीटिंग उपराज्यपाल के सामने हो जिससे दोनों पक्ष (सरकार और उपराज्यपाल) जिम्मेदारी को लेकर आश्वासन दें सकें।
इसके लिए मनीष सिसोदिया ने सोमवार को एलजी के नाम पत्र भी लिखा था। खबरों के मुताबिक मुख्य सचिव ने भी एलजी से मौजूदा विवाद खत्म करने के लिए कदम उठाने को कहा है। ऐसे दिल्ली की सियासत में पिछले कई दिनों से बढ़ी सरगर्मी मंगलवार को खत्म होने के आसार बढ़ गए हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »