गाजीपुर पथराव में सिपाही की मौत पर DGP बोले- बेहद दुखद घटना

DGP ने कहा- गाजीपुर पथराव में सिपाही की मौत के 20 नामज़द आरोपी गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी  DGP ओम प्रकाश सिंह ने रविवार को यहां बताया कि गाजीपुर में शनिवार को हुए पथराव में हेड कांस्टेबल सुरेश प्रताप सिंह वत्स की मृत्यु अत्यन्त दुखद है। इस मामले में दर्ज हुए तीन मुकदमों में अब तक कुल 20 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। DGP ने बताया कि आईपीसी की धारा 302 (हत्या) के तहत 32 नामजद और 70 से 80 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि मुख्‍य आरोपी पर एनएसए लगाया जाएगा। अपराधियों के विरुद्ध कठोर से कठोर धारा लगाकर कार्रवाई किया जाएगी।

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में प्रदर्शनकारियों के पथराव में पुलिस के एक सिपाही की मृत्यु के मामले में अब तक 20 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस ने इस मामले में 11 लोगों को पहले गिरफ्तार किया था और इस मामले में नौ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है।

यूपी के गाजीपुर में भीड़ द्वारा सिपाही सुरेश प्रताप सिंह की पीट-पीटकर हत्या कर देने के मामले में अब तक करीब 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मामले पर ट्वीट करते हुए यूपी डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने ये जानकारी दी। उन्होंने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि ये बेहद दर्दनाक है। इस मामले में जो भी जिम्मेदार हैं। उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना को स्थानीय प्रशासन की नाकामी करार देते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री की रैली की वजह से प्रशासन और पूरे खुफिया विभाग को पता था कि कहां पर किसका धरना-प्रदर्शन होने वाला है, मगर इसके बावजूद यह दुखद घटना घट गयी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इसकी आड़ में निर्दोष लोगों को परेशान किया जा रहा है।

मालूम हो कि गाजीपुर जिले में शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में जाने से रोके जाने से नाराज लोगों द्वारा किए गए पथराव में हेड कांस्टेबल वत्स की मृत्यु हो गयी थी। जिला पुलिस अधीक्षक यशवीर सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं को पुलिस तथा प्रशासन ने प्रधानमंत्री की रैली में जाने से रोका था। इससे नाराज होकर उन्होंने जगह-जगह रास्ता जाम कर दिया और रैली से लौटने वाले वाहनों पर पथराव किया।

इस दौरान जाम खुलवाने गये हेड कांस्टेबल सुरेश वत्स (48) के सिर पर पत्थर लगने से उसकी मौत हो गयी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृत पुलिसकर्मी के परिजन को 40 लाख रूपये और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपये की सहायता का ऐलान करते हुए इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिये हैं।

इस महीने ऐसी वारदात में किसी पुलिसकर्मी की मौत का यह दूसरा मामला है। इससे पहले, गत तीन दिसम्बर को बुलंदशहर में हिंसक भीड़ के हमले में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह मारे गये थे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »