फार्मेसी के क्षेत्र में हर समय रहती है डिमांड, अच्‍छे मौके

मेडिकल फील्ड की जब भी बात आती है, तो सबसे पहले डॉक्टर का नाम सामने आता है लेकिन डॉक्टर के अलग इस फील्ड में और भी ऐसी कई सेक्टर हैं, जिनमें करियर का अच्छा स्कोप है। इसमें ही एक है फार्मेसी। यह ऐसा क्षेत्र है, जिसकी डिमांड हर समय रहती है और इसमें नौकरी के ढेर सारे मौके हैं।
परिचय
फार्मेसी का सीधा संबंध मेडिसिन से है। इसमें दवाई कैसे बनती है, पैकेजिंग कैसे होती है, मार्केटिंग किस प्रकार की जाती है आदि के बारे में बताया जाता है। साथ ही रिसर्च के स्तर पर वैज्ञानिकों, तकनीशियनों और साइंस फील्ड के लोगों के लिए इसमें रोजगार की असीम संभावनाएं हैं।
कई ऑप्शन मौजूद
आज के दौर में देश-दुनिया में हर साल कोई न कोई नई बीमारी या वायरस सामने आ रहा है। ऐसे में इनके एंटीवायरस पैदा करने तुरंत जरूरत रहती है। वहीं मेडिकल में हर दिन कोई न कोई नई खोज हो रही हैं, जिसमें फार्मेसी की अहम भूमिका होती है। यही वजह है कि पिछले तीन दशकों के दौरान फार्मासिस्ट दवा अनुसंधान और उद्योग में एक महत्तवपूर्ण भूमिका निभा रहा है।
​फार्मेसी में ये हैं कोर्स
फार्मेसी में डिप्लोमा (डी फार्मा): यह दो साल का कोर्स होता है। इसके लिए 12वीं (केमिस्ट्री, मैथ्स, बॉयोलॉजी या फिजिक्स के साथ) जरूरी होती है।
बैचलर ऑफ फार्मेसी (बी फार्मा): बी फार्मा 4 साल कोर्स है। मैथ्स, बॉयोलॉजी और फिजिक्स या पीसीएम में 12वीं करने वाले स्टूडेंट्स इस कोर्स में एडिमशन ले सकते हैं। इसमें कोई स्पेशलाइजेशन नहीं होता है।
मास्टर इन फार्मेसी (एम फार्मा): यह दो साल का कोर्स होता है। इसमें स्टूडेंटस अपने पंसद के हिसाब से स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। एम फार्मा में फार्माकोग्नॉसी, फार्मासूटिकल इंजिनियरिंग, बायो केमेस्ट्री, एमबीए जैसे स्पेशलाइजेशन मौजूद हैं।
​इनके लिए मौके ही मौके
डीपीएसआरयू के वाइस चांसलर प्रफेसर आरके गोयल के अनुसार फार्मेसी मेडिसिन में किसी एक क्षेत्र तक सीमित नहीं है। यहां स्टूडेंट्स के लिए नौकरी के मौके ही मौके हैं। दरअसल, अभी भी फार्मेसी विजिलेंस, इंश्योरेंस फार्मेसी, मेडिकल डिवाइसेस आदि ऐसे कई फील्ड हैं, जिनकी लोगों को कम ही जानकारी है जबकि यहां नौकरियों के भरपूर अवसर हैं। वहीं सरकारी संस्थानों में ड्रग इंस्पेक्टर बनकर करियर संवारा जा सकता है। साथ ही स्टूडेंट्स फार्मेसी में इनोवेशन के जरिए एक एमबीबीएस डॉक्टर से भी ज्यादा पैसे कमा सकते हैं। इसका उदाहरण आई ड्रॉप है। पहले आई ड्रॉप की शीशी सिल्वर कैप में लगी आती थी, जिसे हटाकर ड्रॉप कैप लगाई जाती थी। आज से बिलकुल बदल गई है। यह सिर्फ इनोवेशन के जरिए ही संभव हो पाया। साथ ही फार्मेसी का कोर्स करने के बाद स्टूडेंट एथिकल और जनेरिक मार्केटिंग में भी बेहतर करियर बना सकते हैं। कम्युनिटी फार्मेसी, ऑनलाइन फार्मेसी आदि भी आज के समय के बेहतरीन करियर विकल्प हैं।
प्रमुख संस्थान
दिल्ली फार्मासुटिकल साइसेज ऐंड रिसर्च यूनिवर्सिटी (डीपीएसआरयू), नई दिल्ली
इंस्टिट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नॉलजी, मुंबई
यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मासूटिकल साइंसेज, चंडीगढ़
जामिया हमदर्द, हमदर्द नगर, नई दिल्ली
(इनके अलावा और भी संस्थान हैं)
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »