अयोध्या में विहिप व शिवसेना के आयोजनों पर रोक की मांग, अफसरों की छुट्टियां भी निरस्‍त

अयोध्‍या। अयोध्या के मुसलमानों ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर अयोध्या में 24 व 25 नवम्बर को विहिप व शिवसेना के प्रस्तावित आयोजनों पर रोक लगाने की मांग की है। मुस्लिम समुदाय के लागों ने हस्ताक्षर युक्त पत्र जिलाधिकारी को सौंपा।
राष्ट्रपति के नाम इस पत्र में लिखा है कि विहिप, शिवसेना, बजरंग दल व आरएसएस का 24 व 25 नवम्बर को अयोध्या में लाखों लागों को एकत्र कर जिले सहित देश का माहौल खराब करने की योजना है। पत्र में लिखा है कि विहिप, शिवसेना आदि संगठनों ने न सिर्फ घोषणा की है बल्कि लोगों का नगर में आगमन शुरू भी हो गया है। इससे यहां की जनता में काफी भय व्याप्त हो गया है।
राष्ट्रपति से अपील की गई है कि यदि इस पर रोक न लगाई गई तो छह दिसम्बर 1992 की तारीख फिर से दोहराई जा सकती है, जिसमें बाबरी मस्जिद ध्वस्त होने के साथ मुसलमानों के मकानात व धर्मिक स्थल को ध्वस्त किया गया था और कईयों की हत्या भी की गई थी। मुस्लिम समुदाय ने अपील की है कि 24 व 25 नवम्बर के आयोजन पर रोक लगाई जाये और अयोध्या व फैजाबाद की अमन पसन्द जनता और विशेषतौर पर अयोध्या के मुसलमानों के जान-माल, मकानों व धार्मिक स्थलों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।
दूसरी ओर कार्तिक पूर्णिमा स्नान और अयोध्या में होने वाले शिवसेना व विश्व हिन्दू परिषद के आयोजनों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन व पुलिस की संयुक्त बैठक में मंथन किया गया। बैठक में मण्डलायुक्त मनोज मिश्र ने कार्तिक पूर्णिमा स्नान को सकुशल एवं शान्तिपूर्वक सम्पन्न कराने के लिए सम्बन्धित मजिस्ट्रेटों एवं अधिकारियों को निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि इन आयोजनों के मद्देनजर अयोध्या मेला ड्यूटी से जुड़े सभी अफसरों व कर्मियों के अवकाश 26 नवम्बर तक निरस्त कर दिये गये हैं।
बैठक में उन्होंने कहा कि पूर्णिमा स्नान का मुहूर्त आज से प्रारम्भ होकर कल सुबह 11.28 बजे तक रहेगा। इस दौरान स्नान के लिये घाटों पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ रहेगी। इसके लिए जल पुलिस सजग दृष्टि रखे। जल बैरीकेडिंग की व्यवस्था अच्छी हो। घाटों पर स्वास्थ्य विभाग के केन्द्र स्थापित करने के साथ एम्बुलेन्स की तैनाती की गई है। इसके बारे में सभी मजिस्ट्रेट व अधिकारी जानकारी रखें ताकि आवश्यकता पड़ने पर समय से इस्तेमाल कर सकें। श्री मिश्र ने कहा कि नागेश्वर नाथ मन्दिर में सरयू जी का जल चढ़ाया जाता है। इस कारण वहां निकास द्वार व प्रवेश द्वार पर फिसलन की सम्भावना होती है। ऐसे में यहां के अलावा अन्य सभी प्रमुख स्थलों पर साफ-सफाई व भीड़ को व्यवस्थित करने के लिए पुलिस व मजिस्ट्रेट आपस में अच्छा समन्वय बनाकर कार्य सम्पन्न करायें।
कमिश्नर ने कहा कि श्रीरामजन्मभूमि के पास दर्शन करने वालों से भिन्न कोई भी शख्स दिखे तो उसे रोक दें। सर्वोच्च न्यायालय के यथास्थिति बनाये रखने के निर्देश का कड़ाई से पालन करायें। ट्रैफिक व्यवस्था सुदृढ रखें। दुकानों को सड़क पर न लगाने दें। उन्होंने नगर निगम को छुट्टा जानवरों को भीड़-भाड़ वाले क्षेत्र से निकालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। श्रीमिश्र ने कहा कि सभी अधिकारी कार्यस्थल पर अपना शत-प्रतिशत योगदान दें।
बैठक में डीआईजी ओंकार सिंह ने कहा कि सभी तैनात अधिकारी मनोभाव से कार्य करें। नागेश्वर नाथ मन्दिर, सरयू घाट, हनुमानगढ़ी, कनक भवन व रामजन्मभूमि आदि मुख्य स्थलों पर विशेष सर्तकता बरतें। श्रद्धालुओं को अच्छी से अच्छी व्यवस्था व सुविधा उपलब्ध कराएं। रामजन्मभूमि में दर्शन के लिए निर्धारित समय प्रात: सात से 11.30 बजे तक तथा दोपहर 12.30 से सायं 5.00 बजे तक का है। उसी समय लोग दर्शन के लिये जायें।
जिलाधिकारी डा. अनिल कुमार ने स्नान स्थल पर ही स्नान करने की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि घाट और आसपास सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करायें। मन्दिरों के प्रवेश व निकास मार्ग के साथ सभी प्रमुख स्थलों पर साफ-सफाई व भीड़ को व्यवस्थित रखें। डीएम ने कहा कि फिसलन वाले स्थानों पर बालू छिड़काव की व्यवस्था करें। विशेषकर रामजन्मभूमि मार्ग, दुकानों व ठेलों को किनारे और पीछे करें, जिससे जाम की समस्या न हो। एम्बुलेन्स निर्धारित स्थल पर तैनात रहें ताकि आवश्यकता पड़ने पर तत्काल इसका उपयोग किया जा सके। अस्थाई अस्पतालों पर अच्छे डॉक्टर तैनात करने के साथ सभी चिकित्सकीय उपकरण, ऑक्सीजन व आवश्यक दवायें उपलब्ध रखें।
डा. कुमार ने कहा कि कहीं पर भी प्रकाश की कमी न होने पाये। भीड़ वाले क्षेत्रों में पोलों पर पॉलीथीन लपेटना सुनिश्चित करें। कमजोर बैरीकेडिंग को मजबूत करें। उन्होंने बताया कि 24 नवम्बर को शिवसेना का कार्यक्रम तथा 25 नवम्बर को विश्व हिन्दू परिषद की ओर से बड़ा भक्तमाल की बगिया में धर्मसभा का आयोजन होना है। इन आयोजनों को संवेदनशीलता की दृष्टि से देखें। सभी अधिकारी समय से ड्यूटी पर रहकर पूर्ण मनोयोग और निष्ठा से कार्य करें। इस अवसर पर एसपी सिटी अनिल कुमार सिसौदिया, एडीएम सिटी विन्ध्यवासिनी राय, सीआरओ, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व एसडीएम सदर के साथ ड्यूटी पर लगाये गये सम्बन्धित मजिस्ट्रेट व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »