दिल्‍ली पुलिस अब एक्‍शन में, किसान नेताओं के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी

नई दिल्‍ली। गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्‍टर परेड के दौरान हुई हिंसा को लेकर दिल्‍ली पुलिस अब एक्‍शन में है। कई किसान नेताओं के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर (LOC) जारी कर दिया गया है। दिल्‍ली पुलिस अब इन नेताओं के पासपोर्ट सरेंडर करवाने की प्रक्रिया भी शुरू करेगी। इससे पहले पुलिस ने किसान नेताओं से पूछा था कि वे बताएं कि तय समझौते का उल्‍लंघन करने पर उनके खिलाफ कार्यवाही क्‍यों न की जाए। किसान नेताओं को जवाब देने के लिए तीन दिन का वक्‍त दिया गया है। नोटिस 20 से ज्‍यादा किसानों को दिए गए हैं जिनमें योगेंद्र यादव, बलबीर राजेवाल, बलदेव सिंह सिरसा जैसे नाम शामिल हैं।
किसी को बख्‍शा नहीं जाएगा: दिल्‍ली पुलिस
दिल्ली पुलिस ने लाल किले पर हिंसा को “सबसे निंदनीय और राष्ट्र विरोधी कृत्य” करार दिया है। पुलिस कमिश्‍नर एसएन श्रीवास्तव ने आरोप लगाया कि 26 जनवरी की हिंसा में किसान नेता शामिल थे। उन्होंने चेतावनी दी है कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा। नोटिस में ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित शर्तों के उल्लंघन का भी हवाला दिया गया है। पुलिस ने क्रांतिकारी किसान यूनियन के प्रमुख दर्शन पाल से कहा कि वह अपने संगठन से जुड़े दोषी लोगों के नाम बताएं जो हिंसा में शामिल थे।
एक्‍टर, सोशल ऐक्टिविस्‍ट भी नामजद
दिल्ली पुलिस ने लाल किले पर हुई हिंसा के सिलसिले में दर्ज FIR में अभिनेता दीप सिद्धू और ‘गैंगस्टर’ से सामाजिक कार्यकर्ता बने लक्खा सिधाना के नाम भी शामिल किए हैं। दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (IPC), सार्वजनिक संपत्ति को क्षति से रोकथाम अधिनियम और अन्य कानूनों की धाराओं के तहत उत्तरी जिले के कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया है। FIR में प्राचीन स्मारकों और पुरातात्विक स्थलों और अवशेष अधिनियम तथा शस्त्र अधिनियम के प्रावधानों को भी जोड़ा गया है।
घायल पुलिस वालों का हाल जानेंगे शाह
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह गुरुवार को दो अस्‍पतालों का दौरा कर हिंसा में घायल पुलिसकर्मियों का हालचाल लेंगे। किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा की घटनाओं में करीब 400 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। गृह मंत्री सुश्रुत ट्रामा सेंटर और तीरथ राम अस्पताल का दौरा करेंगे।
दिल्‍ली के बॉर्डर्स पर बेहद कड़ी सुरक्षा
किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद, दिल्ली से लगी सीमाओं पर भारी पुलिस बल तैनात है। लाल किले पर भी सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए हैं। तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर मंगलवार को हजारों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाली थी। इस दौरान कई जगह प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के बैरिकेड्स को तोड़ दिया। पुलिसकर्मियों के साथ झड़प व वाहनों में तोड़-फोड़ की और लाल किले पर एक धार्मिक ध्वज लगा दिया था। दिल्ली पुलिस ने बुधवार को इस संबंध में 25 आपराधिक मामले दर्ज किए थे।
एक्शन मोड में गृह मंत्री शाह
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गणतंत्र दिवस को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में किसानों के ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा में शामिल लोगों की जल्द से जल्द पहचान करने का आदेश दिया है। शाह ने हिंसा की घटना के दूसरे दिन बुधवार को दिल्ली के ताजा हालात की समीक्षा के लिए एक मीटिंग की जिसमें उन्होंने दिल्ली पुलिस से कहा कि हिंसा एवं देशविरोधी गतिविधियों में शामिल एक भी व्यक्ति गिरफ्त से बचना नहीं चाहिए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *