अंकित शर्मा मर्डर केस में भी दिल्‍ली पुलिस ने चार्जशीट दायर की

नई दिल्‍ली। दिल्‍ली हिंसा के दौरान इंटेलिजेंस ब्‍यूरो (IB) कर्मचारी अंकित शर्मा के मामले में पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है।
क्राइम ब्रांच ने निलंबित AAP पार्षद ताहिर हुसैन समेत कुल 10 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की। अंकित शर्मा मर्डर केस दिल्‍ली दंगों से जुड़ा एक अहम केस है जिसे लेकर खासा विवाद हुआ था। अपनी चार्जशीट में क्राइम ब्रांच ने कहा है कि शर्मा की खजूरी खास इलाके में बर्बरता से हत्‍या की गई। चार्जशीट बताती है कि अंकित की हत्‍या बेहद सोची-समझी साजिश का नतीजा है।
चार्जशीट में क्‍या है?
दिल्‍ली पुलिस की चार्जशीट अंकित शर्मा की हत्‍या पर कहती है कि मामला 25 फरवरी की शाम को दर्ज हुआ। खजूरी खास इलाके में ताहिर हुसैन के घर के बाहर वारदात हुई। शर्मा की हत्‍या के बाद भीड़ ने एक नाले में लाश फेंक दी। पुलिस का दावा है कि उनके पास प्रूफ है कि कुछ लोग लाश नाले में फेंक रहे हैं। डॉक्‍टर्स ने पाया कि तेज धार वाले हथियार से 51 वार के निशान हैं। चार्जशीट में दिल्‍ली दंगों और अंकित शर्मा की हत्या के पीछे ताहिर हुसैन का हाथ बताया गया है। पुलिस के मुताबिक ताहिर ने ही चांद बाग इलाके में भीड़ को उकसाया। चार्जशीट में मुख्‍य आरोपी सलमान है जिसकी मोबाइल कॉल ट्रेस की गई थी। सभी 10 आरोपी इस समय जेल में हैं।
25 फरवरी की हुई थी अंकित की हत्‍या
अंकित शर्मा की हत्‍या खजूरी खास में ताहिर हुसैन के घर के पास हुई थी। भीड़ ने शर्मा की बेरहमी से हत्‍या के बाद शव को नाले में फेंक दिया था। शर्मा के लापता होने के एक दिन बाद 27 फरवरी को उनका शव उत्तर-पूर्वी दिल्ली के चांदबाग में उनके घर के नजदीक एक नाले से मिला था। पोस्‍टमॉर्टम में अंकित के जिस्‍म पर तेज धार वाले हथियार के 51 निशान मिले थे।
दिल्‍ली दंगों को लेकर एक और अहम चार्जशीट
पुलिस राजधानी स्‍कूल मामले को लेकर एक और चार्जशीट दाखिल करेगी। यह मामला 5 मार्च को दर्ज किया गया था। 24 फरवरी को शिव विहार के राजधानी पब्लिक स्‍कूल के बाहर हिंसा हुई थी। सामने के स्‍कूल के मालिक की शिकायत पर दर्ज एफआईआर में लिखा था कि दंगाइयों ने राजधानी स्‍कूल की छत से पेट्रोल बम, ईंट-पत्‍थर फेंके। कुछ दुकानें भी चलाई गईं। मामले में अबतक 18 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
दंगों से जुड़े मामले में घिरे ताहिर हुसैन
हुसैन के खिलाफ दिल्‍ली दंगों से जुड़े एक मामले में भी शिकंजा कस गया है। मंगलवार को कड़कड़डूमा कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में पुलिस ने कहा कि ताहिर ने दंगे के दौरान अपनी लाइसेंसी पिस्टल का इस्तेमाल किया था। ताहिर पर आरोप है कि जनवरी के दूसरे हफ्ते में 1.1 करोड़ रुपये शेल कंपनियों में ट्रांसफर करवाए फिर बाद में उन पैसों को कैश में ले लिया। यह दंगों में तीसरी चार्जशीट है। पुलिस का दावा है कि खजूरी खास इलाके में रहने वाले ताहिर नॉर्थ ईस्ट दंगों के मास्टरमाइंड में से एक है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *