पाकिस्‍तान को रक्षामंत्री की कड़ी चेतावनी, हमें उकसाया गया तो कड़ा जवाब देंगे

नई दिल्ली। पाकिस्तान की तरफ से लगातार सीजफायर का उल्लंघन किए जाने को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए पाक को कड़ी चेतावनी दी है। रमजान के दौरान सीजफायर को लेकर रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत सीजफायर का सम्मान करता है, लेकिन हमें उकसाया गया तो कड़ा जवाब दिया जाएगा। रक्षा मंत्री ने कहा कि गृह मंत्रालय ने सेना से बातचीत करने के बाद ही जम्मू-कश्मीर में रमजान सीजफायर लागू किया था। उन्होंने कहा कि हम इस फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन आर्मी के पास अब भी जवाबी कार्यवाही करने का विकल्प है। अगर सेना को उकसाया तो जरूर जवाब देंगे। इस दौरान जब पाकिस्तान से बातचीत को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय पहले ही कह चुका है कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते हैं और यही हमारी सरकार का रुख है।
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जब रक्षा मंत्री से पूछा गया कि क्या वह रमजान सीजफायर को सफल मानती हैं? तो उन्होंने कहा ‘यह सफल रहा या नहीं, यह तय करना रक्षा मंत्रालय का काम नहीं है। हमारा काम हमारी सीमाओं की रक्षा करना है और यदि हमें उकसाया गया तो हम भी नहीं रुकेंगे। हमें इसके लिए पूरी तरह तैयार रहना होगा कि उकसावे के लिए किए गए किसी भी हमले का पूरा जवाब दिया जाए। देश की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है।’
फंड की नहीं है कोई कमी
रक्षामंत्री ने कहा ‘सेना के पास फिलहाल हथियारों की कोई कमी नहीं है। राफेल डील में लगाए जा रहे भ्रष्टाचार के आरोप पूरी तरह निराधार हैं।’ उन्होंने कहा कि सेना के पास फंड की भी कोई कमी नहीं है। रक्षामंत्री ने आंकड़े जारी करते हुए कहा कि 2013-14 में 86,740 करोड़ रुपये जारी किए गए, लेकिन खर्च हुए 79,125 करोड़ रुपये, 2014-15 में 94,587 करोड़ रुपये जारी हुए और खर्च हुए 81,887 करोड़ रुपये, 2015-16 में जारी किए गए 94,588 करोड़ रुपये और खर्च हुए 79,958 करोड़ रुपये, 2016-17 में जारी किए गए 86,304 करोड़ रुपये और खर्च हुए 86,370 करोड़ रुपये और 2017-18 में जारी किए गए 86,488 करोड़ रुपये और खर्च हुए 90,406 करोड़ रुपये।
बता दें कि इससे पहले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा था, ‘हमने रमजान को देखते हुए सिक्योरिटी ऑपरेशंस न करने का फैसला किया था। हालांकि, पाकिस्तान की ओर से सीमा पार आतंकवाद और युद्धविराम के उल्लंघन में कोई राहत देखने को नहीं मिली है।’
हंसराज अहीर ने कहा, ‘पाकिस्तान की तरफ से ऐसी घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है। ऐसे में हम भी सीजफायर के समझौते को तोड़ने के लिए विवश होंगे।’ अहीर ने स्पष्ट किया कि युद्धविराम की शर्तों के तहत पलटवार करने का पूरा अधिकार है। हालांकि अहीर ने कहा कि भारत अभी भी पहले हमला नहीं करने की नीति पर कायम है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »