दशहरे पर रक्षामंत्री का चीन को संदेश, भारत की एक इंच भी जमीन नहीं जाने देंगे

दार्जिलिंग/नाथुला पास। चीन से तनातनी के बीच जवानों का मनोबल बढ़ाने के लिए केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भारतीय सेना के साथ दशहरा मना रहे हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रविवार सुबह दार्जिलिंग के सुकना सुकमा वॉर मेमोरियल पर पहुंचे और वहां ‘शस्त्र पूजा’ की। इस दौरान रक्षामंत्री ने कहा, ‘भारत-चीन की सीमा पर जो तनाव चल रहा है, भारत ये चाहता है कि तनाव खत्म हो। शांति स्थापित हो है लेकिन कभी-कभी नापाक हरकत होती रहती है। मैं पूरी तरह से आश्वस्त हूं कि हमारे सेना के जवान किसी भी सूरत में अपने भारत की एक इंच भी जमीन किसी दूसरे के हाथों में जाने नहीं देंगे’ उधर, अपनी यात्रा के दौरान राजनाथ सिंह ने सिक्किम में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की ओर से बनाए गए एक एक्सल रोड का ई-उद्घाटन किया।
राजनाथ ने की सुकना युद्ध स्मारक पर ‘शस्त्र पूजा’
केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार सुबह दार्जिलिंग के सुकना युद्ध स्मारक पर ‘शस्त्र पूजा’ किया। इस दौरान भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी उपस्थित रहें।
सुकना युद्ध स्मारक पर अर्पित की श्रद्धांजलि
केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार सुबह दार्जिलिंग के सुकना युद्ध स्मारक पर पहुंचे। यहां सबसे पहले रक्षामंत्री ने सुकना युद्ध स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की और वीर जवानों को याद किया।
रक्षामंत्री ने ट्वीट कर दी जानकारी
केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ट्वीट में कहा, ‘सभी देशवासियों को विजयदशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं। आज के इस पावन अवसर पर मैं सिक्किम के नाथूला क्षेत्र में जाकर भारतीय सेना के जवानों से भेंट करूंगा और शस्त्र पूजन समारोह में भी मौजूद रहूंगा।’ रविवार सुबह रक्षामंत्री और सेना प्रमुख विशेष विमान से सिक्किम के लिए रवाना होंगे और वहां एलएसी से लगे फारवर्ड एरिया का दौरा करेंगे। दशहरे के मौके पर पर सैनिकों के साथ शस्त्र पूजन के बाद राजनाथ उन्हें संबोधित भी करेंगे।
बीआरओ की परियोजना का किया ई-उद्घाटन
अपनी यात्रा के दौरान राजनाथ सिंह ने सिक्किम में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की ओर से बनाए गए एक एक्सल रोड का ई-उद्घाटन किया। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘आज नेशनल हाईवे-310 के आंशिक वैकल्पिक मार्ग को, सिक्किम की जनता को समर्पित करते हुए मुझे बड़ी खुशी हो रही है। ‘गंगटोक’ से ‘नाथू-ला’ को जोड़ने वाला NH-310, पूर्वी सिक्किम के सीमावर्ती क्षेत्रों के लोगों की जीवन रेखा है। 19.35 किलोमीटर लम्बे वैक्लपिक एन. एच. 310 का निर्माण करके, BRO ने पूर्वी सिक्किम के निवासियों और सेना की आकांक्षाओं को पूरा किया है।
‘NH-310 बन जाने से सेना के आवागमन और लोगों की दिक्कतें होंगी दूर’
रक्षा मंत्री ने कहा कि पुराने वैकल्पिक मार्ग NH-310 पर भारी मात्रा में भूस्खलन और सिंकिंग की संभावनाओं वाला क्षेत्र है। इससे बरसात के मौसम में यहां के लोगों और सेना को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अब इस 19.35 किलोमीटर वैकल्पिक मार्ग NH-310 बन जाने से ये दिक्कतें दूर हो सकेंगी।
‘सीमावर्ती सड़कों का हो रहा डबल लेन में अपग्रेडेशन’
रक्षा मंत्री ने कहा कि मैं आप सबको यह भी बताना चाहता हूं कि BRO की ओर से सिक्किम के अधिकांश सीमावर्ती सड़कों का डबल लेन में अपग्रेडेशन किया जा रहा है। इसमें से ईस्ट सिक्किम में 65 किलोमीटर सड़क निर्माण-कार्य प्रगति पर है और 55 किलोमीटर सड़क निर्माण योजना के तहत है। केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि नॉर्थ सिक्किम में भारतमाला परियोजना के अन्तर्गत ‘मंगन-चुगथांग-यूमेसेमडोंग’ और ‘चुगंथांग-लाचेन-जीमा-मुगुथांग-नाकुला’ तक 225 किलोमीटर डबल लेन सड़क का निर्माण कार्य नियोजित है। ये कार्य 9 पैकेजों में नियोजित किए गए हैं, जिनकी अनुमानित लागत 5710 करोड़ रुपए है।
दो दिन के दौरे पर पहुंचे राजनाथ सिंह
दो दिन के दौरे पर पश्चिम बंगाल और सिक्किम पहुंचे राजनाथ ने इससे पहले दार्जिलिंग के सुकना स्थित 33 वीं कॉर्प्स मुख्यालय पर भारतीय सेना के जवानों से मुलाकात की और तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने भारतीय जवानों को संबोधित भी किया। दार्जिलिंग में 33वीं कॉर्प्स के जवानों को संबोधित करते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत ने हमेशा अपने सभी पड़ोसियों के साथ अच्छा संबंध चाहा। उन्होंने कहा कि भारत की तरफ से हमेशा इसको लेकर प्रयास किए गए लेकिन भारतीय जवानों ने सीमाओं, अखंडता और सार्वभौमिकता की रक्षा की खातिर समय-समय पर कुर्बानी दी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *