परमाणु हमले की ‘नापाक’ धमकी का रक्षा मंत्री ने दिया जवाब

नई दिल्‍ली। पाकिस्तान की परमाणु हमले की धमकी पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि किसी ने बुरी नजर डाली तो हमारी सेनाएं माकूल जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।
रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद अहमद ने पीओके में भारतीय सेना की कार्यवाही पर एटमी हमले की धमकी दी थी।
19 अक्टूबर को पाकिस्तानी सेना ने आतंकियों की घुसपैठ को अंजाम देने के लिए तंगधार सेक्टर में भारतीय पोस्टों पर फायरिंग की थी। भारतीय सेना ने इसके जवाब में पीओके की नीलम घाटी में स्थित आतंकी कैम्पों पर आर्टिलरी फायरिंग की थी। इसमें करीब 10 पाकिस्तानी सैनिक और कई आतंकवादी मारे गए थे।
हमने कभी किसी की एक इंच जमीन नहीं हथियाई: राजनाथ
रक्षा मंत्री नेवी कमांडरों की कॉन्फ्रेंस में बोल रहे थे। उन्होंने कहा- भारत कभी भी आक्रामक नहीं रहा। हमने कभी भी किसी देश पर हमला नहीं किया और न ही किसी की एक इंच जमीन हथियाई लेकिन अगर किसी ने हम पर बुरी नजर डाली तो हमारी सेनाएं इसका माकूल जवाब देने के लिए तैयार पूरी तरह तैयार हैं।
नौसेना पर राजनाथ ने कहा, मुझे पूरा भरोसा है कि भारतीय समुद्र पूरी तरह सुरक्षित हाथों में है। हमारी नौसेना का प्रण है कि 26/11 जैसा हमला किसी भी सूरत में दोहराया न जा सके और वह पूरी तरह मुस्तैद है। नौसेना स्वदेशीकरण की तरफ बढ़ रही है और हमारे पोतों में भारतीय उपकरणों की तादाद बढ़ रही है। तीनों सेनाओं का जोर इस बात पर है कि आयात को कम किया जाए।
अब तोपें-गोले नहीं चलेंगे, परमाणु हमला होगा: शेख रशीद
रिपोर्ट्स के मुताबिक पीओके में भारतीय सेना की बड़ी कार्यवाही के बाद शेख रशीद ने भारत का नाम लिए बगैर कहा था कि अब तोपें और गोले नहीं चलेंगे। हवाई हमला नहीं हो। अब सीधे परमाणु हमला होगा। रशीद इससे पहले भी भारत पर परमाणु हमले की धमकी दे चुके हैं।
वी के सिंह ने कहा था, पूंछ को सीधा करने में समय लगता है
जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के बार-बार संघर्ष विराम उल्लंघन पर राजनाथ से पहले पूर्व सेनाध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री जनरल वी के सिंह ने रविवार को कहा था कि कई बार पूंछ को सीधा करने में समय लगता है। हमारी सेना जरूरत पड़ने पर हमेशा कार्यवाही के लिए तैयार रहती है ताकि दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके और अप्रत्यक्ष तौर पर जो युद्ध छेड़ा जा रहा है, उसे रोका जा सके।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »