प्रमुख ब्रांड्स ने दीपिका के विज्ञापन कम दिखाने का निर्णय लिया

मुंबई। देश में विज्ञापनों और फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा पेमेंट पाने वाली अभिनेत्री दीपिका पादुकोण से अपने जुड़ाव को लेकर प्रमुख ब्रांड्स सतर्कता बरतने लगे हैं। जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में नकाबपोशों ने छात्रों पर लोहे के रॉड, चेन और लाठियों से हमला किया था। इसके विरोध में लेफ्ट विंग के छात्रों की ओर से आयोजित एक प्रदर्शन में दीपिका पादुकोण भी कैंपस में गई थीं। इससे नाराज एक वर्ग ने दीपिका की नई फिल्म छपाक का विरोध शुरू कर दिया। अब विवाद को देखते हुए ब्रैंड्स भी सतर्कता बरत रहे हैं।
कुछ ब्रांड्स ने कहा कि वे दीपिका वाले अपने विज्ञापनों को फिलहाल के लिए कम दिखा रहे हैं। वहीं नामचीन सितारों के एंडोर्समेंट्स संभालने वाले मैनेजरों ने कहा कि आने वाले समय में विज्ञापनों के करारों में इस तरह के क्लॉज जोड़े जा सकते हैं, जिनमें किसी सिलेब्रिटी के राजनीतिक रुख तय करने से प्रशासन के नाराज हो सकने वाले जोखिम का जिक्र होगा। कोका-कोला और ऐमजॉन आदि को रिप्रेजेंट करने वाली IPG मीडियाब्रांड्स में चीफ एग्जिक्युटिव शशि सिन्हा ने कहा, ‘सामान्य तौर पर ब्रांड्स सुरक्षित दांव चलते हैं। वे किसी विवाद से बचना चाहते हैं।’
ट्रोल्स के निशाने पर दीपिका
अपनी फिल्म छपाक की रिलीज से तीन दिन पहले दीपिका 7 जनवरी को जेएनयू कैंपस गई थीं। गुंडों के हमले में घायल जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष के पास खड़ी दीपिका की तस्वीर वायरल हो गई थी। इस पर जहां उनके साहस की प्रशंसा की गई थी, वहीं कई मंत्रियों, दक्षिणपंथी ट्रोल्स आदि ने उन पर निशाना साधा था।
दो हफ्तों के लिए रोका विज्ञापन
एक मीडिया बाइंग एजेंसी के एग्जिक्यूटिव ने कहा, ‘मझोले आकार के एक ब्रांड ने हमसे कहा है कि दीपिका वाले उसके विज्ञापन करीब दो हफ्तों के लिए रोक दिए जाएं। उम्मीद है कि तब तक विवाद ठंडा पड़ जाएगा।’ दीपिका ब्रिटानिया के गुड डे, लॉरियल, तनिष्क, विस्तारा एयरलाइंस और एक्सिस बैंक सहित 23 ब्रांड्स के लिए विज्ञापन करती हैं। दीपिका की नेटवर्थ 103 करोड़ रुपये की है। ट्विटर पर उनके 2.68 करोड़ फॉलोअर हैं। बताया जाता है कि एक फिल्म के लिए वह 10 करोड़ रुपये और विज्ञापन के लिए 8 करोड़ रुपये लेती हैं।
राजनीतिक मामलों में बोलने के नफा-नुकसान समझा रहीं मैनेजमेंट कंपनियां
शाहरुख खान और प्रियंका चोपड़ा की ब्रांड्स डील्स पर काम कर चुकी क्रॉसओवर एंटरटेनमेंट की एमडी विनीता बंगार्ड ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि मौजूदा विवाद के कारण ब्रांड्स पीछे हट जाएंगे। दीपिका को जिस बात पर भरोसा है, उसके लिए वह खड़ी हुईं। ब्रांड्स राजनीतिक नजरिए से बचना चाते हैं लेकिन सोचने-समझने वाले सेलेब्रिटीज को अपनी बात कहने की आजादी होनी चाहिए।’ एक टॉप सेलेब्रिटी मैनेजमेंट कंपनी के हेड ने कहा, ‘हम अपने सेलेब्रिटी क्लाइंट्स को राजनीतिक मामलों में बोलने के नफा-नुकसान के बारे में बता रहे हैं। तय तो उनको ही करना है लेकिन संवेदनशील मामलों में विवाद बढ़ भी सकता है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *