गांधी परिवार की SPG सुरक्षा वापस लेने का निर्णय, कांग्रेस नाराज़

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बाद अब सरकार गांधी परिवार को मिली SPG सुरक्षा वापस लेने जा रही है। समाचार एजेंसी ANI की रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ-साथ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को मिला SPG कवर वापस ले लिया गया है। अब कांग्रेस के इन तीनों नेताओं को Z+ श्रेणी की सुरक्षा दी जाएगी।
सूत्रों के मुताबिक गृह मंत्रालय की उच्चस्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है। उधर, कांग्रेस पार्टी ने सरकार के फैसले की निंदा की है।
जेड प्लस सुरक्षा के तहत CRPF के कमांडोज गांधी परिवार की सुरक्षा करेंगे। ऐसे मामले में गृह मंत्रालय का तर्क होता है कि किसी भी व्यक्ति के सामने संभावित खतरे को देखते हुए सुरक्षा दी जाती है। फिलहाल गांधी परिवार को कोई खतरा नहीं है और ऐसे में जेड प्लस की सुरक्षा पर्याप्त होगी। गृह मंत्रालय समय-समय पर सुरक्षा कवर को लेकर समीक्षा करता रहता है।
आपको बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के बाद पूरे गांधी परिवार को SPG सुरक्षा कवर देने का फैसला किया गया था। इस फैसले के बाद अब केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही SPG कवर रह गया है। 1988 में पार्लियामेंट ने SPG एक्ट 1988 पास किया था जिसका उद्देश्य प्रधानमंत्री के सुरक्षा चक्र को मजबूत करना था। जब वीपी सिंह प्रधानमंत्री बने तो सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की SPG सुरक्षा वापस ले ली। 1991 में राजीव गांधी की हत्या के बाद SPG एक्ट में संशोधन किया गया। अब इस एक्ट के तहत पूर्व प्रधानमंत्रियों और उनके परिवार को कम से कम 10 साल तक SPG सुरक्षा दी जानी थी।
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपनी सरकार के वक्त SPG एक्ट की फिर से समीक्षा की और पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव सहित एचडी देवगौड़ा और इंद्र कुमार गुजराल से SPG सुरक्षा वापस ले ली। 2003 में वाजपेयी सरकार ने एक बार फिर से SPG एक्ट में संशोधन किया और 10 साल की सुरक्षा को कम करके एक साल कर दिया। यह एक साल प्रधानमंत्री पद छोड़ने के बाद से गिना जाना था। इसमें यह भी कहा गया कि अगर किसी पूर्व प्रधानमंत्री की जान को खतरा है तो इसे एक साल से बढ़ाया भी जा सकता है।
अभी तक गांधी परिवार यानी सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी और प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा में SPG के 3000 जवान तैनात रहते थे लेकिन अब अकेले पीएम मोदी की सुरक्षा का जिम्मा इन कमांडो के पास होगा।
गांधी परिवार को परेशान कर रही सरकार: कांग्रेस
कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि सरकार SPG की सुरक्षा हटाकर गांधी परिवार को परेशान करना चाहती है। अल्वी ने कहा कि यह फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि गांधी परिवार के दो लोगों की हत्या कर दी गई थी, ऐसे में यह सुरक्षा नहीं हटनी चाहिए थी। कांग्रेस पार्टी ने कहा कि बीजेपी बदले की राजनीति कर रही है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »