इटली में जितनी मौतें बताईं, उससे 19 हज़ार ज़्यादा हो सकती हैं: INPS

शुरुआत में चीन के बाद इटली कोरोना वायरस की चपेट में सबसे बुरी तरह से था. बाद में इटली ने चीन को पीछे छोड़ दिया और संक्रमण के साथ मौतों के मामले में भी नंबर वन पर रहा. आगे चलकर अमरीका ने इटली को पीछे छोड़ दिया. अमरीका में अब तक 95 हज़ार लोगों की मौत हो चुकी है और इटली में 32 हज़ार.
गुरुवार को इटली की नेशनल सोशल सिक्यॉरिटी एजेंसी ने कहा है कि इटली में मार्च और अप्रैल में कोविड 19 से जितनी मौतें बताई गईं उनसे 19 हज़ार ज़्यादा हो सकती हैं.
INPS इटली की सबसे बड़ी सामाजिक सुरक्षा और कल्याण एजेंसी है. इसने कहा है कि सरकारी आँकड़ों पर विश्वास नहीं किया जा सकता है.
इस स्टडी में बताया गया है कि मार्च-अप्रैल में इटली में कुल 156,429 मौतें हुई थीं. यह संख्या इटली में 2015 से 2019 के बीच इन महीनों में हुई औसत मौत से 46,909 ज़्यादा है. लेकिन इनमें से केवल 27,938 मौतों को ही सिविल प्रोटेक्सन एजेंसी ने कोरोना वायरस से जोड़ा.
इसका मतलब है कि 18,971 मौतें इस दौरान सामान्य मौतों से ज़्यादा रहीं और इनमें से 18,412 मौतें इटली के उत्तरी इलाक़े में दर्ज हुईं जो बुरी तरह से कोरोना वायरस की चपेट में था. INPS का कहना है कि बढ़ी हुई मौतों को केवल कोरोना वायरस से नहीं जोड़ा जा सकता लेकिन लोग कोविड 19 के मरीज़ों के कारण ही हेल्थकेयर सेवाएं नहीं ले पा रहे थे क्योंकि अस्पतालों में उनके अलावा जगह ही नहीं थी.
शुक्रवार तक इटली में कोरोना वायरस से मरने वालों की आधिकारिक संख्या 32,486 है और इनमें से 26,715 लोगों की मौत इटली के उत्तरी इलाक़े लोम्बार्डी में हुई है. कोरोना वायरस से यह यूरोप का सबसे बुरी तरह से प्रभावित इलाक़ा है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »