आतंकी संगठन हक़्क़ानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक़्क़ानी की मौत

अफ़गान तालिबान ने घोषणा की है कि आतंकी गुट हक़्क़ानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक़्क़ानी की एक लंबी बीमारी के बाद मौत हो गई है.
हक़्क़ानी का आतंकवादी गुट अफ़ग़ानिस्तान में भारत के ठिकानों पर कई हमलों के लिए ज़िम्मेदार रहा है.
साल 2008 में काबुल में भारतीय दूतावास पर हुए हमले में 58 लोग मारे गए थे. इस हमले के पीछे हक़्क़ानी नेटवर्क का ही हाथ था.
इसी गुट पर अफ़ग़ानिस्तान और भारत के अलावा कई देशों के दूतावासों, अफ़ग़ान संसद की इमारत, स्थानीय बाज़ारों और कई अमरीकी सैन्य अड्डों पर हमले का भीआरोप है.
ग़ौरतलब है कि अफ़ग़ानिस्तान की संसद के भवन का निर्माण भारत के सहयोग से ही हुआ है.
‘तालिबान से रिश्ते’
जलालुद्दीन हक़्क़ानी अफ़ग़ानिस्तान में अहम शख़्सियत था और उसका तालिबान के अलावा अल-क़ायदा से भी नज़ीदीकी रिश्ता था.
हाल के वर्षों में हक़्क़ानी नेटवर्क ने अफ़ग़ान और नेटो सेनाओं के कई ठिकानों पर सिलसलेवार हमले किए हैं. ऐसा माना जाता है कि साल 2001 के बाद से हक़्क़ानी नेटवर्क की कमान जलालुद्दीन हक़्क़ानी के बेटे को थमा दी गई थी.
कई बार उड़ी अफ़वाह
जलालुद्दीन हक़्क़ानी की मौत के बारे में जारी बयान में मरने की तारीख़ और जगह का कोई ज़िक्र नहीं है.
अफ़ग़ान तालिबान ने अपने बयान में कहा है, “जैसे अपनी जवानी में उन्होंने अल्लाह और उसके मज़हब के लिए मुसीबतें झेलीं, वैसी बाद के सालों में उन्होंने बीमारी से लंबे समय तक संघर्ष किया. ”
जलालुद्दीन हक़्क़ानी की मौत की अफ़वाहें कई सालों से उड़ती आ रही हैं.
साल 2015 में हक़्क़ानी नेटवर्क के करीबी सूत्रों ने बताया था कि जलालुद्दीन साल भर पहले मर चुका है लेकिन इस बात की तस्दीक कभी नहीं हो सकी.
जलालुद्दीन हक़्क़ानी 1980 के दशक में अफ़ग़ानिस्तान में सोवियत सेना के ख़िलाफ़ गुरिल्ला संघर्ष के बाद ख़बरों में आया था.
ये बात अमरीका भी मानता है कि वो एक ज़माने में अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी यानी सीआईए का ख़ास था.
साल 1996 में अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान का शासन आने के बाद हक़्क़ानी नेटवर्क उनका सहयोगी बन गया था. जलालुद्दीन हक़्क़ानी तालिबान सरकार में मंत्री भी था.
तालिबान ने अपने बयान में जलालुद्दीन हक़्क़ानी को एक ‘आदर्श योद्धा’ बताते हुए लिखा है कि वो अपने दौर का नामी जिहादी था.
ऐसा माना जाता है कि जलालुद्दीन ने पाकिस्तान के दारुल हक़्क़ानियां मदरसे से तालीम हासिल की थी. इस मदरसे के तालिबान से गहरे संबंध बताए जाते हैं.
धाराप्रवाह अरबी बोलने वाले हक़्क़ानी ने अल-क़ायदा के पूर्व प्रमुख ओसामा बिन लादेन से भी नज़दीकी रिश्ते बनाए थे.
साल 2001 में अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सैन्य अभियान के बाद, पाकिस्तान-अफ़ग़ानिस्तान सीमा पर सक्रिय हुए संगठनों में हक़्क़ानी नेटवर्क प्रमुख था.
ये गुट पाकिस्तान की सीमा के भीतर से ही काम करता है. काबुल में साल 2017 में विस्फोटकों से भरे ट्रक से धमाका किया गया था जिसमें 150 लोग मारे गए थे. इस हमले के लिए हक़्क़ानी नेटवर्क को ज़िम्मेदार माना जाता है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »