पुण्‍यतिथि: ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ प्राप्‍त लेखिका महाश्‍वेता देवी

सुप्रसिद्ध लेखिका और सामाजिक कार्यकर्ता महाश्‍वेता देवी की आज पुण्‍यतिथि है। 14 जनवरी 1926 को अविभाजित भारत के ढाका में जन्‍मी महाश्‍वेता देवी की मृत्‍यु 28 जुलाई 2016 के दिन कोलकाता में हुई।
महाश्‍वेता देवी ने बांग्ला भाषा में बेहद संवेदनशील तथा वैचारिक लेखन द्वारा उपन्यास तथा कहानियों के साहित्य को समृद्धशाली बनाया। अपने लेखन कार्य के साथ-साथ महाश्वेता देवी ने समाज सेवा में भी सदैव सक्रियता से भाग लिया और इसमें पूरे मन से लगी रहीं। स्त्री अधिकारों, दलितों तथा आदिवासियों के हितों के लिए उन्होंने जूझते हुए व्यवस्था से संघर्ष किया तथा इनके लिए सुविधा तथा न्याय का रास्ता बनाती रहीं। 1996 में उन्हें ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था। महाश्वेता जी ने कम उम्र में ही लेखन कार्य शुरू कर दिया था और विभिन्न साहित्यिक पत्रिकाओं के लिए लघु कथाओं का महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।
महाश्‍वेता के पिता मनीष घटक ख्याति प्राप्त कवि और साहित्यकार थे। माँ धरित्री देवी भी साहित्य की गंभीर अध्येता थीं। वे समाज सेवा में भी संलग्न रहती थीं। महाश्वेता ने जब बचपन में साफ-साफ बोलना शुरू किया तो उन्हें जो जिस नाम से पुकारता, वे भी उसी नाम से उसे पुकारतीं। पिता उन्हें ‘तुतुल’ कहते थे तो ये भी पिता को तुतुल ही कहतीं। आजीवन पिता उनके लिए ‘तुतुल’ ही रहे। भारत विभाजन के समय किशोर अवस्था में ही उनका परिवार पश्चिम बंगाल में आकर रहने लगा था। इसके उपरांत उन्होंने ‘विश्वभारती विश्वविद्यालय’, शांतिनिकेतन से बीए अंग्रेज़ी विषय के साथ किया। फिर ‘कलकत्ता विश्वविद्यालय’ से एमए भी अंग्रेज़ी में किया। महाश्वेता देवी ने अंग्रेज़ी साहित्य में मास्टर की डिग्री प्राप्त की थी। इसके बाद एक शिक्षक और पत्रकार के रूप में उन्होंने अपना जीवन प्रारम्भ किया। इसके तुरंत बाद ही कलकत्ता विश्वविद्यालय में अंग्रेज़ी व्याख्याता के रूप में आपने नौकरी प्राप्त कर ली। सन 1984 में उन्होंने सेवानिवृत्ति ले ली।
1947 में प्रख्यात रंगकर्मी विजन भट्टाचार्य से उनका विवाह हुआ था। 1962 में विजन भट्टाचार्य से उनका विवाह-विच्छेद हो गया। उसके बाद असीत गुप्त से दूसरा विवाह हुआ किंतु उनसे भी 1975 में विवाह-विच्छेद हो गया। उसके बाद उन्होंने लेखन और आदिवासियों के बीच कार्य कर हमेशा सृजनात्मक कार्यों में अपने को व्यस्त रखा।
उपन्यास ‘अरण्येर अधिकार’ का लेखन
अपने उपन्यास ‘अरण्येर अधिकार’ (जंगल के दावेदार) में महाश्वेता देवी समाज में व्याप्त मानवीय शोषण और उसके विरुद्ध उबलते विद्रोह को उम्दा तरीके से रेखांकित करती हैं। ‘अरण्येर अधिकार’ में उस बिरसा मुंडा की कथा है, जिसने सदी के मोड़ पर ब्रिटिश साम्राज्यवाद के विरुद्ध जनजातीय विद्रोह का बिगुल बजाया। मुंडा जनजाति में समानता, न्याय और आजादी के आंदोलन का सूत्रपात बिरसा ने अंग्रेज़ों के खिलाफ किया था। ‘अरण्येर अधिकार’ आदिवासियों के सशक्त विद्रोह की महागाथा है जो मानवीय मूल्यों से सराबोर है।
पुरस्कार व सम्मान
1977 में महाश्वेता देवी को ‘मेग्सेसे पुरस्कार’ प्रदान किया गया। 1979 में उन्हें ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ मिला। 1996 में ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ से वह सम्मानित की गईं। 1986 में ‘पद्मश्री’ तथा फिर 2006 में उन्हें ‘पद्मविभूषण’ सम्मान प्रदान किया गया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *