DDU परीक्षा समिति का निर्णय, जून के पहले हफ्ते में परीक्षा संभव

पं. दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्व विद्यालय DDU , गोरखपुर की स्नातक और परास्नातक फाइनल ईयर की विशेष परीक्षाएं इसी वर्ष जून के पहले हफ्ते में हो सकती हैं। परीक्षाएं कोरोना को लेकर जारी सरकारी एडवाइजरी के अनुसार कराई जाएंगी। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई DDU परीक्षा समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया।
बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार स्थिति ठीक होने पर अंतिम वर्ष की परीक्षा को प्राथमिकता दी जाएगी। जबकि शेष परीक्षा द्वितीय चरण में

छात्र का जीवन सर्वोपरि
परीक्षा समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो.विजय कृष्ण सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय उन सभी मुद्दों पर विचार कर रहा है जिससे सत्र लेआट न हो। हमें न केवल विद्यार्थियों के हितों को देखना है अपितु कोरोना वायरस से भी बचना है। आज पूरी दुनिया में कोरोना वायरस महामारी का रूप ले चुका है। इसका असर यहां पर भी है। इसलिए हमें इसको लेकर विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

इस बार DDU और उससे संबद्ध डिग्री कॉलेजों में परीक्षा के लिए एक एडवाइजरी जारी की गई है-
• प्रत्येक परीक्षार्थी को परीक्षा के समय मास्क या गमछे से अपना नाक, मुँह ढक कर रखना अनिवार्य होगा।
•परीक्षा केन्द्र पर सेनेटाइजर की व्यवस्था अनिवार्य होगी। छात्र स्वयं भी सेनेटाइजर रख सकते हैं।
•प्रत्येक परीक्षा के पूर्व परीक्षा कक्ष सेनेटाइज कराया जायेगा।
•विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित प्रत्येक परीक्षा केन्द्र पर हाथ धोने के लिए साबुन/हैंडवाश व पानी की व्यवस्था अनिवार्य होगी।
•यदि किसी परीक्षार्थी को किसी कारण से बुखार/जुखाम/छींक आ रही है, तो उसकी परीक्षा की व्यवस्था अलग कमरे में होगी
•विश्वविद्यालय परीक्षा केन्द्र पर सम्मिलित होने वाले छात्रों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था होगी। महाविद्यालय भी अपने स्तर से छात्रहित में थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था कराएंगे।
•छात्रों को सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा। दो छात्रों के बैठने की दूरी समुचित रहेगी। इसके लिए परीक्षा कक्षों की संख्या बढ़ायी जा सकती है।
•परीक्षा केन्द्र पर छात्रों के साथ-साथ कक्ष निरीक्षकों/कर्मचारियों आदि को भी सोशल डिस्टेसिंग व आवश्यक सतर्कता का पालन कराना अनिवार्य होगा।
•परीक्षा जल्दी समाप्त हों इसके लिए रविवार व अन्य छुट्टियों के दिन भी परीक्षा करायी जायेगी। •वर्तमान विषम परिस्थियों के कारण छात्रों के प्रश्नपत्रों के बीच किसी भी प्रकार का गैप देना अनिवार्य नहीं होगा। छात्र लॉक डाउन की अवधि में परीक्षा की तैयारी करते रहें।
•परीक्षा केन्द्र पर परीक्षार्थियों की संख्या के अनुरूप केन्द्राध्यक्ष परिस्थिति अनुरूप अपने विवेक से परीक्षा कक्ष में छात्रों की इंट्री 30 मिनट से एक घंटा पूर्व कराना सुनिश्चित करेंगे।
•छात्रों को परीक्षा केन्द्र पर परीक्षा से एक घंटा पूर्व आना/पहुंचना होगा। जिससे उनके स्वास्थ्य आदि की जांच हो सके।

र‍िपोर्ट: नवनीत मिश्र

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *