डांसिंग क्वीन माधुरी दीक्षित का बर्थडे आज

मुंबई। बॉलीवुड की डांसिंग क्वीन, डैशिंग दीवा और बेहतरीन अभिनेत्री माधुरी दीक्षित का आज बर्थडे है। 15 मई 1967 को मुंबई में जन्मीं माधुरी का जादू और करिश्मा आज भी बरकरार है। इन दिनों वो अपनी मराठी फ़िल्म ‘बकेट लिस्ट’ को लेकर चर्चा में हैं। इसके अलावा माधुरी अनिल कपूर के साथ ‘टोटल धमाल’ में भी नज़र आने-वाली हैं।
माधुरी के कैरियर, उनकी नाकामियां और फिर उनकी सक्सेस को देखें तो यह कहना गलत न होगा कि माधुरी दीक्षित बनना आसान नहीं है! क्या आप जानते हैं माधुरी के पिता शंकर दीक्षित और माता स्नेह लता दीक्षित अपनी लाड़ली बेटी को डॉक्टर बनाना चाहते थे। माधुरी ने अपनी शुरुआती पढ़ाई डिवाइन चाइल्ड हाई स्कूल से की और बाद में उन्होंने मुंबई यूनिवर्सिटी से बीए किया। उससे पहले माधुरी को बचपन से ही डांस का शौक था। जब वह केवल तीन साल की थीं, उन्होंने डांस सीखना शुरू कर दिया था। जब वो आठ साल की हुईं तब जाकर उन्होंने एक क्लासिकल प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और वह उनका पहला बड़ा परफॉर्मेंस था।
बहरहाल, डांस में माधुरी इतनी निपुण हो गईं कि जब वो टीनएज थीं, उस वक्त वह अपनी बहनों के साथ डांस क्लासेज़ लेती थीं और बच्चों को डांस भी सिखाती थीं। यही डांसिंग आज भी उनकी ताकत है।
माधुरी दीक्षित के फ़िल्मी कैरियर की बात करें तो इसकी शुरुआत साल 1984 में राजश्री प्रोडक्शन की फ़िल्म ‘अबोध’ से की थी। हालांकि, टिकट खिड़की पर यह फ़िल्म कुछ कोई कमाल नहीं कर पायी और जिसके बाद माधुरी को अपने शुरुआती कैरियर में कई नाकामियां झेलनी पड़ी। हालांकि, 1988 में आई फ़िल्म ‘दयावान’ में अपने से 21 साल बड़ी उम्र के एक्टर विनोद खन्ना के साथ दिए गए उनके किस सीन ने उस वक़्त तहलका मचा दिया था। बता दें कि इस सीन की खूब आलोचना हुई थी। बाद में माधुरी ने भी माना कि उन्हें यह किस सीन नहीं करना चाहिए था।
माधुरी लगातार बेहतर अवसर के लिए प्रयास कर रही थीं और फिर उन्हें मिली साल 1988 में आई एन.चंद्रा की फ़िल्म ‘तेज़ाब’। यह फ़िल्म उनके कैरियर के लिए एक टर्निंग पॉइंट साबित हुई! इस फ़िल्म में उनकी बेहतरीन एक्टिंग के लिए उन्हें फ़िल्मफेयर अवार्ड के लिए नॉमिनेट भी किया गया था। इस फ़िल्म का गाना ‘एक दो तीन…’आज भी माधुरी दीक्षित के आइकॉनिक गीतों में से एक है। यहां से अभिनेता अनिल कपूर ही नहीं बल्कि कोरियोग्रफेर सरोज ख़ान के साथ भी माधुरी की एक ज़बरदस्त बॉन्डिंग स्थापित हुई और जो कई कामयाब फ़िल्मों तक जारी रही। तेज़ाब के बाद माधुरी ने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और उन्होंने बैक-टू बैक कई नेह्तारीन और हिट फ़िल्में दीं।
अनिल कपूर के साथ उन्होंने तकरीबन बीस फ़िल्मों में काम किया जिनमें से अधिकतर फ़िल्में सुपरहिट साबित हुईं। रिलेशनशिप की बात करें तो माधुरी का नाम अनिल कपूर से लेकर संजय दत्त तक के साथ जुड़ा। अनिल के साथ ‘राम लखन’ के दौरान तो संजय के साथ ‘साजन’ फ़िल्म के समय माधुरी की नजदीकियां बढ़ीं लेकिन, संजय से उनका यह रिश्ता कुछ ही समय चल सका और बाद में टाडा मामले में संजय दत्त के जेल जाने के बाद माधुरी ने उनसे दूरी बना ली। माधुरी सिर्फ इंडिया ही नहीं पाकिस्तान में भी काफी फेमस हैं। जब बॉर्डर पर ज़ंग छिड़ी थी तो पाकिस्तानियों ने कहा था कि हम कश्मीर छोड़ देंगे अगर तुम हमें माधुरी दीक्षित दे दो। ज़ाहिर है यह मज़ाक में ही कहा गया होगा लेकिन, इससे माधुरी के प्रति उनकी दीवानगी साफ देखी जा सकती है। माधुरी के अभिनय और हुस्न के कायल पूरी दुनिया में हैं। फेमस चित्रकार एमएफ हुसैन साहब तो माधुरी के इतने मुरीद थे कि उन्होंने माधुरी को लेकर एक फ़िल्म ‘गजगामिनी’ तक बना दी थी।
माधुरी दीक्षित की शादी डॉ. श्रीराम नेने के साथ 1999 में हुई। उनके दो बच्चे हैं- रियान और एरिन नेने। आमिर के साथ ‘दिल’, सलमान के साथ ‘हम आपके हैं कौन’, तो शाह रुख़ के साथ ‘दिल तो पागल है’ जैसी कामयाब फ़िल्में दे चुकीं माधुरी ने अपने समय के तमाम बड़े एक्टर्स के साथ काम किया है। माधुरी अक्सर बॉलीवुड की पार्टियों और फ़िल्मों की स्क्रीनिंग आदि में नज़र आ जाती हैं।
इस बीच यह जानना भी रोचक है कि माधुरी दीक्षित ने एक नई शुरुआत की है। उन्होंने डांस की ई-लर्निंग क्लास की शुरुआत की है। माधुरी ने बताया कि इस नई शुरुआत में उनके पति डॉ. नेने तकनीकी हिस्सा संभाल रहे हैं। ।
माधुरी दीक्षित ने हाल ही में एक कार्यक्रम में बताया था कि अगली माधुरी दीक्षित वही होगी जो अपने डांस फॉर्म पर मेहनत करेगी। माधुरी दीक्षित कहती हैं, ‘‘मुझे लगता है सबकी अपनी एक पर्सनॉलिटी है। मुझे सभी एक्ट्रेस के डांस फॉर्म पसंद हैं। मुझे लगता है अगली माधुरी दीक्षित वही होगी जो अपने डांस फॉर्म को लेकर मेहनत करेगी। उसे अपना रास्ता खुद तय करना होगा।’’
पद्म श्री समेत दर्जनों प्रतिष्ठित अवार्ड हासिल कर चुकीं माधुरी दीक्षित हिंदी सिनेमा की ऐसी अभिनेत्री हैं जिन्हें 13 बार फ़िल्मफेयर पुरस्कार का नॉमिनेशन मिला, जिनमें से 4 बार वो विनर रही हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »