आर्ट ऑफ लिविंग के विश्व संस्कृति महोत्सव से यमुना तट को हुई 13.29 करोड़ रुपए मूल्‍य की क्षति

Damage to the Yamuna coast from World Culture Festival of Art of Living worth 13.29 crores
आर्ट ऑफ लिविंग के विश्व संस्कृति महोत्सव से यमुना तट को हुई 13.29 करोड़ रुपए मूल्‍य की क्षति

नई दिल्‍ली। आर्ट ऑफ लिविंग के स्‍थापना दिवस पर दिल्ली में यमुना तट पर विश्व संस्कृति महोत्सव आयोजन करने की वजह से यमुना तट को जो क्षति हुई है उसकी भरपाई करने में 13.29 करोड़ रुपए लग जाएंगे।
पिछले साल से शुरु हुए इस विवाद में बुधवार को व‌िशेषज्ञों ने एनजीटी को बताया क‌ि इस समारोह के आयोजन से यमुना तट को 13.29 करोड़ का नुकसान हुआ है। बता दें कि यह समारोह पिछले साल 11 से 13 मार्च के बीच आयोजित किया गया था।
—ANI (@ANI_news) April 12, 2017
इस पूरे मामले पर आर्ट ऑफ लिविंग के प्रवक्ता केदार देसाई ने कहा कि हमारी लीगल टीम मामले के सभी पहलुओं को बारीकी से देखेगी और उसके बाद ही किसी तरह का एक्शन लिया जाएगा।
—ANI (@ANI_news) April 12, 2017
बता दें कि श्री श्री रविशंकर के प्रोग्राम वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल का आयोजन दिल्ली में यमुना के किनारे किया गया था। तीन दिन तक चले इस प्रोग्राम के खत्म होने के बाद दूर-दूर तक सिर्फ गंदगी, कूड़े के ढेर दिखे। श्री श्री रविशंकर की संस्था के स्वयं सेवकों ने प्रोग्राम की तैयारियों में पर्यावरण और यमुना को नुकसान से बचाने की भरसक कोशिश की थी लेकिन समापन के बाद चारो तरफ गंदगी फैल गई।
तीन दिन चला था वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल
-11 2016 मार्च से शुरू हुआ श्री श्री रविशंकर का मेगा शो वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल 13 मार्च 2016 को खत्म हुआ।
– कार्यक्रम का उद्घाटन पीएम नरेंद्र मोदी ने किया था।
– आखिरी दिन श्री श्री के कार्यक्रम में कई केंद्रीय मंत्री और लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन पहुंचीं थीं।
– वित्त मंत्री अरुण जेटली, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और वेंकैया नायडू, बीजेपी प्रेसिडेंट अमित शाह भी कार्यक्रम में शामिल हुए थे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *