Laos में बांध टूटा, 20 लोगों की मौत और कम से कम 100 लापता

Laos की सरकारी मीडिया का कहना है कि देश के दक्षिण पश्चिम में एक निर्माणाधीन बांध टूट गया है और इस कारण कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई है.
बताया जा रहा है कि कम से कम 100 लोग लापता हैं और छह हज़ार से अधिक लोगों के घर पानी में डूब गए हैं.
Laos न्यूज़ एजेंसी का कहना है कि सोमवार को अटापू प्रांत में पनबिजली परियोजना के तहत बन रहा एक बांध टूट गया जिससे पानी छह गांवों में भर आया.
प्रभावित इलाक़े सानामक्से से जो तस्वीरें सामने आई हैं, उनमें घरों की छतों पर लोग बैठे देखे जा सकते हैं.
Laos के इस प्रांत की सीमाएं विएतनाम और कंबोडिया से सटी हुई हैं.
हादसे से कुल कितने लोग प्रभावित हैं इस बारे में साफ़ तौर पर जानकारी फिलहाल उपलब्ध नहीं है. इलाके में फ़ोन सिग्नल काम नहीं कर रहे हैं.
लापता
एजेंसी का कहना है, “इस दुर्घटना के कारण कई लोग फंस गए हैं और कई अब भी लापता हैं.”
साल 2013 में शे पियान शे नामनॉय बांध को बनाने का काम शुरू हुआ था और ये अगले साल बन कर तैयार होने वाला था.
इस बांध को बनाने के लिए थाईलैंड की कंपनी राचाबुरी इलेक्ट्रिसिटी जेनरेटिंग होल्डिंग और दक्षिण कोरिया की कंपनी एसके इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन काम कर रही थीं.
रातचबुरी कंपनी के प्रवक्ता का कहना है बांध के परिचालकों ने उन्हें एक रिपोर्ट सौंपी है जिसके अनुसार 16 मीटर ऊंचा बांध टूट गया है.
रिपोर्ट के अनुसार लगातार हो रही बारिश के कारण इस अस्थायी बांध में क्षमता से अधिक पानी आ गया था.
एसके इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन के प्रवक्ता के अनुसार भारी वर्षा के कारण मूल बांध से पहले बनाए गए एक बांध का आधा हिस्सा टूट गया है.
“हमें सही कारणों का अब तक पता नहीं है लेकिन हमारा मानना है कि बांध का ऊपरी हिस्सा टूट गया है और पानी निकल कर सप्लाई बांध में चला गया है.”
Laos की सरकार ने बांध बनाने की महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है और मानती है कि वो आने वाले वक्त में ‘एशिया की बैटरी’ बन सकेगी.
लाओस में मीकोंग नदी और उसकी सहायक नदियां बहती हैं और इसे पनबिजली परियोजना के लिए उत्तम माना जाता है.
2017 में देश में 46 पनबिजली परियोजना चालू थीं और 54 परियोजनाएं निर्माणाधीन थीं.
Laos की योजना के अनुसार साल 2020 तक और 54 बिजली ट्रांसमिशन लाइनें और 16 सबस्टेशन बनाए जाएँगे.
लाओस जितनी पनबिजली का उत्पादन करता है उसका 30 फीसदी हिस्सा निर्यात करता है.
अपील
बांध के बनने से पहले पर्यावरण सुरक्षा से जुड़े समूह Laos पनबिजली परियोजना के प्रभाव और निचले इलाकों में बसे लोगों के लिए इसके ख़तरे की आशंका सामने रखते रहे थे.
सरकारी मीडिया के अनुसार लाओस के प्रधानमंत्री थोंगलून सिसोलिथ ने सरकारी बैठकों को फिलहाल रद्द कर दिया है और प्रभावित क्षेत्र में राहत कार्य की निगरानी कर रहे हैं.
साथ ही लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के लिए नाव भी चलाए जा रहे हैं.
स्थानीय अधिकारियों ने सरकारी संस्थाओं और लोगों से अपील की है कि वो ऐसे वक्त में आपातकालीन मदद मुहैया कराने के लिए सामने आएं और प्रभावितों को खाना, कपड़े, पीने का पानी और दवाएँ दें.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »