शहद की पैकेजिंग को लेकर डाबर ने सफोला हनी पर किया अवमानना केस

नई दिल्‍ली। स्वदेशी FMCG कंपनी डाबर ने पैराशूट और सफोला जैसे ब्रांड का स्वामित्व रखने वाली कंपनी Marico और इसके निदेशकों पर दिल्ली हाईकोर्ट में अवमानना का मुकदमा दायर किया है। यह मुकदमा कोर्ट के आदेश का पालन करने में असफल रहने और शहद की पैकेजिंग न बदलने को लेकर किया है।
दरअसल, डाबर का दावा है कि मैरिको के सफोला हनी (Saffola Honey) की पैकेजिंग, डाबर हनी की पैकेजिंग से मिलती-जुलती है। इसे लेकर कोर्ट ने मैरिको को पैकेजिंग बदलने का आदेश दिया था और मैरिको ने भी अंडरटेकिंग दी थी कि वह पैकेजिंग को बदल देगी। लेकिन ऐसा किया नहीं गया। लिहाजा डाबर ने मैरिको पर अवमानना का मुकदमा कर दिया है। मुकदमे की सुनवाई 14 जुलाई 2021 को होगी।
पिछले साल डाबर ने किया था मुकदमा
डाबर ने पिछले साल मैरिको के खिलाफ मुकदमा किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि मैरिको के सफोला हनी का लेबल और पैकेजिंग जैसे कि बोतल का आकार, पीली कैप, डोम शेप वाला लेबल, हनी कॉम्ब डिजाइन डाबर के प्रॉडक्ट की कॉपी है। कोर्ट ने जुलाई 2020 में फैसला दिया कि निषेधाज्ञा पारित नहीं होने पर वादी को नुकसान होगा। कोर्ट ने कहा कि मैरिको की पैकेजिंग उपभोक्ताओं को भ्रमित कर सकती है, फिर भले ही लेबल पर “सफोला” ब्रांड दिखाया गया हो।
मैरिको का क्या है कहना
हालांकि मैरिको की प्रवक्ता ने इन दावों से इनकार किया। उनके मुताबिक, डाबर का दावा सफोला हनी के सफल लॉन्च को रोकने के लिए प्रतिस्पर्धा के हिस्से के तौर पर एक और ओछी कोशिश है। पहले भी डाबर ने ASCI और अन्य फोरम्स में निराधार मामले दर्ज किए और सभी फोरम्स में मैरिको के रुख को ठीक ठहराया गया। प्रवक्ता ने आगे कहा कि कोर्ट के किसी आदेश का उल्लंघन नहीं किया गया है और न ही मैरिको की ओर से इस मामले में कोई अंडरटेकिंग दी गई थी। प्रतिस्पर्धी कंपनी अंडरटेकिंग के रूप में मैरिको द्वारा सफोला हनी की पैकेजिंग में स्वैच्छिक परिवर्तनों का झूठा उल्लेख कर रही है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *