हल्दीराम के सर्वर पर साइबर अटैक, हैकर्स ने मांगी फिरौती

नोएडा। देश की नामी फूड एंड पैकजिंग कंपनी हल्दीराम के सर्वर पर साइबर अटैक हुआ है। नोएडा साइबर सेल ने जांच में यह पाया है कि यह रैनसमवेयर अटैक था। इसमें एक वायरस के जरिए डेटा को लॉक किया गया और वह डेटा सिस्टम से डिलीट दिखाने लगा। इसके बाद डेटा वापसी के लिए हैकर्स ने 7.50 लाख रुपये की फिरौती मांगी।
कंपनी ने पहले अपनी आंतरिक जांच करवाकर सिस्टम सही करवाया। इसके बाद नोएडा साइबर सेल को शिकायत दी। साइबर सेल की जांच के बाद यह केस सेक्टर 58 थाने में दर्ज हुआ है। पुलिस और साइबर सेल इस मामले की जांच में लगी हुई है।
कई फाइलें भी डिलीट कीं
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक फूड एवं पैकेजिंग कंपनी हल्दीराम का नोएडा के सेक्टर 62 के सी-ब्लॉक में कॉरपोरेट ऑफिस है। यहां से कंपनी का आईटी विभाग संचालित होता है।
हल्दीराम कंपनी के डीजीएम आईटी अजीज खान ने पुलिस को बताया कि 12 और 13 जुलाई की रात में करीब डेढ़ बजे पर कॉर्पोरेट ऑफिस के सर्वर पर अटैक हुआ। इस अटैक के कारण कंपनी के मार्केटिंग बिजनेस से लेकर अन्य विभाग के डेटा गायब हो गए और कई विभागों का डेटा डिलीट भी कर दिया गया। शिकायत के मुताबिक कंपनी की कई महत्वपूर्ण फाइलें भी गायब हो गईं।
चैट के बाद मांगे पैसे
इसकी जानकारी कंपनी के उच्च अधिकारियों को हुई तो पहले आंतरिक जांच की गई। इसके बाद कंपनी अधिकारियों और साइबर अटैक करने वाले अपराधियों के बीच चैट हुई तो साइबर अपराधियों ने कंपनी से सात लाख रुपए की मांग की। कंपनी के डीजीएम आईटी अजीज खान की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच कर रही है।
हैकर्स ने स्क्रीन पर लिखा यह है रैनसमवेयर अटैक
साइबर सेल से मिली जानकारी के मुताबिक रात करीब 1.30 बजे कंपनी प्रबंधन को कुछ गड़बड़ी की सूचना मिली। इसके बाद कंपनी के आईटी इंजीनियर सक्रिय हुए। अटैक सर्वर पर हुआ था इसलिए एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम तक पहुंचने में देर नहीं लगी। इंजीनियरों ने सर्वर कनेक्शन भी काटा लेकिन तब तक हैकर्स ने एक आईपी एड्रेस के जरिए सभी कम्प्यूटर स्क्रीन पर लिख दिया कि यह रैनसमवेयर अटैक है। इसके बाद फिरौती भी मांगी।
इसके स्क्रीनशॉट भी कंपनी ने पुलिस को सौंपे हैं। साइबर सेल में केस की जांच करने वाले पुलिस अधिकारी के मुताबिक यह अटैक विदेश से किया गया या देश से यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। कारण बहुत सी जानकारियां अभी नहीं मिल पाई हैं।
एसीपी-2 रजनीश वर्मा ने बताया, ‘साइबर सेल में इस मामले की शिकायत हुई थी। जांच के बाद साइबर सेल ने अब एफआईआर दर्ज करवाई है। जो भी तथ्य सामने आए हैं उनके हिसाब से जांच आगे बढ़ाई जा रही है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *