टिकट कटते ही कांग्रेसी हुए सांसद उदित राज

नई दिल्‍ली। उत्तर-पश्चिम दिल्ली सांसद उदित राज ने बीजेपी का दामन छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया हे। दलित नेता बीजेपी से टिकट न मिलने से नाराज चल रहे थे। उन्होंने मंगलवार को उत्तर-पश्चिम सीट से बीजेपी की तरफ से गायक हंसराज हंस का टिकट फाइनल होने के बाद दावा किया था कि बीजेपी उन पर इस्तीफे का दबाव बना रही है, लेकिन उन्होंने कोई फैसला नहीं लिया है। उदित राज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ली है। दिल्ली में शीला दीक्षित ने उदित राज को कांग्रेस में औपचारिक तौर पर शामिल किया।
उदित राज ने टिकट कटने के कारण पार्टी छोड़ने की पुष्टि करते हुए कहा कि मुझे लोकप्रियता के सर्वे में दूसरा सबसे लोकप्रिय सांसद चुना गया, लेकिन बीजेपी ने टिकट नहीं दिया। उन्होंने कहा, ‘2014 में पार्टी ने रामनाथ कोविंद को टिकट नहीं दिया था तो वह मेरे पास आए और आपने चुप रहने का इनाम देखा कि उन्हें राष्ट्रपति बना दिया गया। मैं भी चुप रहता तो शायद मुझे भी प्रधानमंत्री बना दिया जाता।’ पार्टी में शामिल करने का औपचारिक ऐलान प्रेस कॉन्फ्रेंस में रमदीप सिंह सुरजेवाला ने किया। केसी वेणुगोपाल ने उदित राज की सराहना करते हुए कहा, ‘उदित राज जी दलितों के लिए लंबे समय से काम कर रहे हैं और हमें खुशी है कि आज वह कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़ गए हैं। पार्टी को इनके सामाजिक और राजनीतिक जीवन के अनुभव का लाभ मिलेगा।’
मंगलवार को हंसराज हंस का टिकट फाइनल होने के बाद भी कयास लगाए जा रहे थे कि वह बीजेपी का दामन छोड़ सकते हैं। मंगलवार को उदित ने कहा था, ‘मैं बतौर निर्दलीय उम्मीदवार खड़ा नहीं होऊंगा। वे (बीजेपी) मुझ पर दबाव डाल रहे हैं कि पार्टी छोड़ दूं लेकिन मैंने पार्टी छोड़ने को लेकर कोई फैसला नहीं लिया है। मैं देशभर में फैले अपने समर्थकों से विचार विमर्श करूंगा।’
टिकट कटने के सवाल पर उदित ने कहा था, ‘जब 2018 में एससी-एसटी संशोधन पर बंद आयोजित हुआ, मैंने विरोध किया, इसलिए ही पार्टी नेतृत्व संभवतया मुझसे नाराज हो गया। जब सरकार की तरफ से कोई भर्ती नहीं हो रही, तो क्या मुझे इस मुद्दे को नहीं उठाना चाहिए था? मैं दलितों के मुद्दों उठाता रहूंगा।’
मंगलवार को हंस को टिकट मिलने के बाद उदित राज के समर्थकों ने बीजेपी की दिल्ली ईकाई के कार्यालय पर नारेबाजी भी की थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »