कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करता है जीरा और गुड़ का पानी

जीरा और गुड़ के पानी का सेवन करने से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक किया जा सकता है।
गुड़ और जीरे का पानी है दर्द में रामबाण की तरह
गुड़ और जीरा 2 ऐसे कॉमन फूड आइटम्स हैं जो हर घर के किचन में जरूर पाए जाते हैं। जीरे का इस्तेमाल खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है। स्वाद के साथ-साथ अच्छी सेहत के लिए भी जीरा काफी अहम माना जाता है। वहीं गुड़ भी तमाम तरह के पोषक तत्वों से भरपूर है।
तो चलिए जानते हैं कि गुड़ और जीरे के पानी से कौन-कौन सी बीमारियां ठीक की जा सकती हैं-
पेट की समस्या से निजात
जीरा और गुड़ दोनों पेट की हर समस्या दूर करने के लिए जाने जाते हैं। कब्ज, गैस, पेट फूलना और पेट दर्द जैसी समस्याओं से राहत पाने के लिए जीरे और गुड़ के पानी का नुस्खा जरूर आजमाइए। इससे पेट की हर समस्या का समाधान हो जाएगा।
दर्द में असरदार
पीठ दर्द और कमर दर्द जैसी समस्याओं के इलाज में भी गुड़ और जीरे का पानी बहुत मदद करता है। इसके अलावा पीरियड्स में हॉर्मोनल बदलावों के चलते महिलाओं को तमाम तरह की तकलीफें होती हैं। इन सभी तकलीफों से निजात दिलाने में गुड़ और जीरे का पानी बेहद कारगर नुस्खा है।
सिर दर्द में राहत
गुड़ और जीरे का पानी पीने से सिरदर्द में काफी राहत मिल जाती है। इसलिए अगर आपको बार-बार सिरदर्द की शिकायत रहती है तो आप इस नुस्खे का इस्तेमाल करके देखें। सिरदर्द के अलावा जीरे और गुड़ के पानी से बुखार को भी ठीक किया जा सकता है।
इम्यूनिटी होगी स्ट्रॉन्ग
जीरा और गुड़ शरीर के विषाक्त तत्वों को बाहर करने के प्राकृतिक गुणों से भरपूर होते हैं। ये हमारे शरीर की गंदगी को साफ कर हमारे प्रतिरक्षा तंत्र यानी इम्यूनिटी को मजबूत बनाते हैं। इससे हमें कई बीमारियों से लड़ने में मदद मिलती है।
ऐसे बनाएं
जीरे और गुड़ का पानी बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में 2 कप सादा पानी लें। अब 1 चम्मच पिसा हुआ गुड़ और 1 चम्मच जीरा मिलाएं और अच्छी तरह उबाल लें। उबालने के बाद इस पानी को आप कप में निकालकर पी सकते हैं।
खाली पेट करें इस नुस्खे का सेवन
आयुर्वेदाचार्य डॉ. एस पी पांडेय बताते हैं कि जीरा वजन और वात की समस्या को कम करता है जबिक गुड़ पाचन ठीक करता है। ऐसे में हर रोज सुबह खाली पेट 1 कप जीरा और गुड़ का पानी का सेवन करने से फायदा मिलता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »