क्रूज ड्रग्स केस: NCB का ग़वाह किरण गोसावी पुणे में गिरफ़्तार

मुंबई के क्रूज ड्रग्स मामले में NCB के ग़वाह किरण गोसावी को गिरफ़्तार कर लिया गया है.
पुणे के पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता ने यह जानकारी दी है.
पुणे पुलिस ने बताया है कि एनसीबी के स्वतंत्र गवाह गोसावी से धोखाधड़ी के मामले में पूछताछ कर रही है.
मुंबई ड्रग्स मामले में शाहरुख़ ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान को हिरासत में लिए जाने के बाद गोसावी ने उनके साथ एक सेल्फ़ी ली थी जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी.
साल 2018 के धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में पुणे पुलिस ने गोसावी के ख़िलाफ़ लुकआउट सर्कुलर जारी किया था.
मुंबई ड्रग्स मामले में ही एक अन्य स्वतंत्र गवाह प्रभाकर साईल ने गोसावी पर 25 करोड़ रुपये की फिरौती मांगने का आरोप लगाया था.
गोसावी पर आरोप
एनसीबी की रेड में किरण गोसावी के शामिल होने को लेकर सवाल उठ रहे थे. पुणे में कस्बा पीठ इलाक़े के चिन्मय देशमुख ने किरण गोसावी के ख़िलाफ़ 29 मई 2018 को फ़रास्खाना पुलिस स्टेशन पर एफ़आईआर दर्ज कराई थी.
एफ़आईआर के अनुसार गोसावी ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर होटल मैनेजमेंट की नौकरी के लिए विज्ञापन पोस्ट किया था और देशमुख इसी नौकरी के लिए उनसे संपर्क में आए थे.
आरोप है कि किरण ने देशमुख को मलेशिया में नौकरी दिलाने का वादा किया था और इसके बदले में अपने अकाउंट में 3.09 लाख रुपए ट्रांसफर करने के लिए कहा था लेकिन किरण ने पैसे तो ले लिए और देशमुख को नौकरी नहीं मिली. जब देशमुख ने पैसे मांगे तो पैसे भी वापस नहीं किए. किरण के ख़िलाफ़ पुलिस ने आईपीसी के सेक्शन 419 और 420 के तहत मामले दर्ज किए थे.
13 अक्टूबर को पुणे सिटी पुलिस ने किरण गोसावी के ख़िलाफ़ लुकआउट नोटिस जारी किया ताकि वो देश छोड़कर ना जा सकें. इसी महीने 18 अक्टूबर को पुलिस ने शरहबानो क़ुरैशी को मुंबई के गोवांडी स्थित उनके आवास से गिरफ़्तार किया था. बानो तब किरण की असिस्टेंट थीं. जाँच में पता चला है कि देशमुख का पैसा बानो के अकाउंट में ही गया था.
तीन और धोखाधड़ी के मामले में किरण गोसावी का नाम है. इनमें 2007 में अंधेरी पुलिस स्टेशन और दो 2015-2017 में थाणे के कपूरबावड़ी पुलिस स्टेशन पर मामले दर्ज किए गए थे.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *