हॉन्ग कॉन्ग में लोकतंत्र समर्थक अखबार का आखिरी संस्‍करण खरीदने को उमड़ी भीड़

हॉन्ग कॉन्ग। हॉन्ग कॉन्ग में लोकतंत्र समर्थक अखबार एप्पल डेली का आखिरी संस्करण खरीदने के लिए गुरुवार तड़के लोगों की लंबी-लंबी कतारें लग गयी।
हॉन्ग कॉन्ग में ज्यादातर जगहों पर सुबह साढ़े आठ बजे तक ही एप्पल डेली के अंतिम संस्करण की 10 लाख प्रतियां बिक गईं थीं। यह अखबार कई साल से चीनी सरकार की आंखों में चुभ रहा था। जिसके बाद चीन ने झूठे आरोप लगाकर इसके मालिक को गिरफ्तार किया और बाद में कुल संपत्ति को जब्त कर लिया। हर दिन इस अखबार की 80000 प्रतियां बिकती थीं लेकिन आखिरी दिन 10 लाख प्रतियां बिकीं।
संपत्ति जब्त करने के बाद अखबार ने बंद किया प्रकाशन
एप्पल डेली ने हॉन्ग कॉन्ग पुलिस के उसकी 23 लाख डॉलर की संपत्ति फ्रीज करने उसके कार्यालय की तलाशी लेने और पांच शीर्ष संपादकों और कार्यकारियों को पिछले हफ्ते गिरफ्तार करने के बाद अपना संचालन बंद करने का ऐलान किया था। हॉन्ग कॉन्ग पुलिस ने इस अखबार पर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए विदेश से मिलीभगत का आरोप लगाते हुए यह कार्यवाही की थी।
लोकतंत्र समर्थक अखबार है एप्पल डेली
एप्पल डेली को लोकतंत्र समर्थक रुख के लिए जाना जाता है। वह शहर पर नियंत्रण बढ़ाने के लिए चीन और हॉन्ग कॉन्ग की सरकारों की अक्सर आलोचना किया करता था। 2019 में चीन के खिलाफ सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद अर्धस्वायत्त हॉन्ग कॉन्ग में असंतुष्टों पर कार्यवाही के सिलसिले में यह ताजा कदम है। चीन ने जुलाई 2020 में हॉन्ग कॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के नाम पर लोकतंत्र समर्थक सभी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था।
विरोध की आवाज बंद कर रहा चीन
यह अखबार ऐसे समय में बंद हो रहा है जब प्राधिकारियों ने 2019 में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद असंतुष्टों पर कार्यवाही तेज कर दी है। चीन द्वारा करीब एक साल पहले लागू किए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत पहले मुकदमे की सुनवाई शुरू होने के साथ ही यह घोषणा की गई है।
एप्पल डेली के कर्मचारी ने जताया दुख
एप्पल डेली के ग्राफिक डिजाइनर डिकसन ने कहा कि यह हमारा आखिरी दिन और आखिरी संस्करण है। क्या यह सच्चाई दिखाता है कि हांगकांग ने अपनी प्रेस की आजादी और अभिव्यक्ति की आजादी को खोना शुरू कर दिया है, इसे इस तरीके से क्यों समाप्त होना पड़ा, क्यों हॉन्ग कॉन्ग में अब कोई एप्पल डेली अखबार नहीं होगा?
अंतिम दिन 10 लाख प्रतियां बिकीं
बुधवार रात को न्यूजरूम में एकत्रित कर्मियों से सहायक प्रकाशक चान पुई-मैन ने कहा, ‘आप सभी ने बहुत शानदार काम किया। एप्पल डेली ने अंतिम संस्करण के लिए 10 लाख प्रतियां प्रकाशित कीं जबकि आम तौर पर 80,000 प्रतियां छपती हैं। लोकतंत्र समर्थक मीडिया संगठन ऑनलाइन मौजूद हैं लेकिन यह शहर में अपनी तरह का इकलौता प्रिंट अखबार था।’
समर्थन दिखाने ऑफिस के बाहर पहुंचे लोग
कर्मचारियों के अंतिम संस्करण पर काम करने के बीच बुधवार रात को 100 से अधिक लोग अपना समर्थन दिखाने के लिए बारिश में एप्पल डेली कार्यालय की इमारत के बाहर खड़े रहे और उन्होंने तस्वीरें खींची तथा प्रोत्साहित करते हुए नारे लगाए।
लंबी कतारें लगा लोगों ने खरीदा अखबार
गुरुवार को तड़के शहर के मोंग कोक में निवासियों ने अखबारों के स्टैण्ड पर पहुंचने से पहले ही कतार लगानी शुरू कर दी। अंतिम संस्करण में एक तस्वीर प्रकाशित की गई जिसमें एप्पल डेली के कर्मचारी इमारत के आसपास एकत्रित हुए समर्थकों का कार्यालय से हाथ हिलाकर अभिवादन कर रहे हैं और इसके साथ ही शीर्षक दिया गया, ‘हॉन्ग कॉन्ग वासियों ने बारिश में दुखद विदायी दी, हम एप्पल डेली का समर्थन करते हैं।’
ब्रिटेन और जर्मनी ने भी चीनी कदम का किया विरोध
ब्रिटेन के विदेश सचिव डोमिनिक राब ने टि्वटर पर कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का इस्तेमाल आजादी पर लगाम लगाने और असंतुष्टों को सजा देने के लिए किया जा रहा है। जर्मनी के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया अदेबार ने अखबार के बंद होने को ‘हॉन्ग कॉन्ग में प्रेस की आजादी को झटका’ बताया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *