एक नई दुनिया में जीने जैसा होगा कोरोना के बाद क्रिकेट: गावसकर

नई दिल्‍ली। घातक कोरोना वायरस का असर क्रिकेट जगत पर भी पड़ा है और तमाम इंटरनेशनल क्रिकेट टूर्नामेंट्स और सीरीज फिलहाल स्थगित हैं। इस बीच दिग्गज सुनील गावसकर ने कहा कि कोरोना के बाद क्रिकेट मैच जब होंगे तो यह हर खिलाड़ी के लिए एक नई दुनिया में जीने जैसा होगा।
पूर्व भारतीय कप्तान गावसकर ने शनिवार को एक निजी चैनल से कहा, ‘हर खिलाड़ी के लिए यह थोड़ा मुश्किल होगा, जब वह फिर मैदान पर उतरेगा। मुझे लगता है कि यह एक नई दुनिया में जीने जैसा होगा।’ कोरोना के कारण क्रिकेट नियमों में भी अंतरिम बदलाव किए गए हैं और गेंद पर लार लगाने पर भी बैन लगाया गया है। इस पर गावसकर ने कहा कि हर खिलाड़ी के लिए थोड़ी मुश्किल होगी।
दर्शक ना होना खलेगा
उन्होंने कहा, ‘मैदान में दर्शकों का ना होना भी खिलाड़ियों को खलेगा। जब स्टैंड में दर्शक नजर आते हैं, कोई भी टीम खेलती है तो उसी रंग में स्टेडियम रंगा सा दिखता है। दर्शकों के ना होने से काफी खाली सा लगेगा।’
युवाओं को होगी फ्रस्ट्रेशन
70 साल के गावसकर ने कहा, ‘युवा पीढ़ी के लिए थोड़ा बुरा लगता है। युवाओं में एक एनर्जी होती है लेकिन घर में रहकर उस एनर्जी को रोकना मुश्किल है। घर पर रहने से खिलाड़ियों को कुछ फ्रस्ट्रेशन होती है, उसका सामना करना और ऐसी स्थिति को संभालना बेहद मुश्किल है। जब मैदान पर किसी खिलाड़ी को पसीना आता है, तो उसे काफी अच्छा लगता है लेकिन वहां खेलने का मौका ना मिलना हर किसी को खलेगा।’
क्यों डोनेट किए 59 लाख?
कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में गावसकर ने भी हाथ बढ़ाए थे और 59 लाख रुपये डोनेट किए। उन्होंने कहा कि उन्होंने भारत के लिए 35 शतक लगाए हैं और इसलिए पीएम केयर्स फंड में 35 लाख रुपये डोनेट किए। उन्होंने कहा, ‘मैं आज जो भी हूं, भारतीय क्रिकेट की वजह से हूं इसलिए 35 शतक को देखते हुए पीएम केयर्स फंड में 35 लाख और मुंबई सीएम रिलीफ फंड में 24 लाख रुपये डोनेट किए लेकिन मेरा मानना है कि यह समुद्र में एक बूंद की तरह है।’
बाएं हाथ से काम, स्पैनिश सीखने की कोशिश
गावसकर ने बताया कि उन्होंने लॉकडाउन में दो नई चीजें सीखने की कोशिश की। उन्होंने कहा, ‘मैं दाएं हाथ से खेलता था, लेकिन लॉकडाउन में मैंने बाएं हाथ से काम करने की कोशिश की। इसके अलावा मैंने स्पैनिश भाषा सीखने की भी कोशिश की क्योंकि कहीं भी जाते हैं तो इससे मदद मिलती है।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *