Cricket की तरह करें टीम भावना से मरीजों की सेवा -डा.राम किशोर अग्रवाल

-Cricket का एक दिवसीय फ्रेंडिली मैच का उदघाटन बॉल डालकर किया आर.के. ग्रुप के चैयरमैन डा. राम किशोर ने

-प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल बोले-रचनात्मक सोच में निरंतरता को स्टाफ का फिट रहना है जरुरी

-विजेता टीम के डा.पीयुष को मिला मैन ऑफ दी मैच

मथुरा। के.डी. मेडीकल कालेज और हास्पीटल स्थित स्पोर्टस ग्राउंड पर बीते दिवस टीचिंग स्टाफ यानी चिकित्सकों के हाथों में बैट दिखा तो नाॅन टीचिंग स्टाफ के हाथ में बाॅल दिखी। बल्लेबाजों द्वारा चैका और छक्कों की बौछार से दर्शक रोमांचित हो उठे। दर्शकों ने तालियों की गडगडाहट से खिलाडियों को प्रोत्साहित किया। इससे पूर्व एक दिवसीय फ्रेंडिली क्रिकेट मैच का उदघाटन करते हुए आर. के ग्रुप के चैयरमैन श्रीराम किशोर अग्रवाल ने कहा कि क्रिकेट हमें टीम भावना से काम करने की सीख देता है। इसी भावना को आगे रखकर चिकित्सक और स्टाफ मरीजों की सेवा नई-नई वैज्ञानिक तकनीकों को अपनाकर अच्छे तरीके से करें।

केडी मेडीकल कालेज एंड हास्पीटल के युवा और उर्जावान प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने बताया कि आरके ग्रुप के चैयरमैन डा. राम किशोर अग्रवाल जनपद के मरीजों को दिल्ली के स्तर की बेहतरीन सेवा चिकित्सा मथुरा में ही दिलवाना चाहते हैं। इसके लिए चिकित्सकों और स्टाफ का फिट रहना जरुरी है। जिससे चिकित्सकों और स्टाफ की रचनात्मक सोच में निरंतरता बनी रहे। उनमें मरीजों के प्रति सेवा और रचनात्मकता का भाव बना रहे। साथ ही वे अपने आपको फिट रखते हुए अपनी डयूटी को अच्छी तरह से निभाने के लिए चुस्त-दुरुस्त बने रहें। इसी से क्रिकेट मैच का आयोजन कराया गया है।
केडी मेडीकल कालेज एंड हास्पीटल की डीन डा. मंजुला बाई केएच, एकेडमिक और रिसर्च के निदेशक डा. अशोक धनविजय और अरुण अग्रवाल मामाजी ने कहा कि इस क्रिकेट मैच से चिकित्सकों और स्टाॅफ के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का विकास होगा। इस तरह के खेलों से उनकी सेवाओं में गुणात्मक और मात्रात्मक रुप से बढोत्तरी होगी।

स्‍टेथेस्‍कोप पकड़ने वाले हाथों ने अपने नाम किया Cricket मैच

एनएच-टू अकबरपुर के निकट स्थित केडी मेडिकल कालेज और हास्पीटल में बीते दिवस स्टैथीस्कोप पकडे रखने वाले हाथ डा. पीयुष और स्पोर्टस आफीसर अभिषेक अरोरा ने जहां एक ओर कई छक्का मारकर दर्शकों को खूब रोमाचित किया। वही स्टाफ टीम ने भी चिकित्सकों को स्पिन, बाउंसर बॉलों के अलावा कैच आउट कर खूब छकाया। कई बार नाॅन टीचिंग स्टाफ टीम से चिकित्सकों को भी मुंह की खानी पडी। लेकिन अंत में टीचिंग स्टाफ ने मात्र चार रन पूर्व ओवर पूरे कर मैच अपने नाम कर लिया। जीतने वाली टीम के डा. विक्रांत को मैन आफ दी मैच भी दिया गया।

मैच कचे अम्पायर रजत चैधरी और गौरव गौतम ने बताया कि टीचिंग स्टाफ चिकित्सकों की टीम ने टॉस जीतने के बाद डा. संजय के 28 रन, डा पीयुष के 26 और डा. पीयुष के 20 की मदद से कुल 118 रन बनाकर जीत के लिए 119 रन का लक्ष्य नानटीचिंग स्टाफ टीम को दिया। नॉनटीचिंग स्टाफ टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए स्पोर्टस आफीसर अभिषेक अरोरा के 61 रन और नरेंद्र के 36 रनों की मदद से कुल 15 ओवरों में 115 रन ही बना सकी। अंतिम ओवर की अंतिम बॉल पर चैका मारने की अपेक्षा पूरी न होने पर नॉन टीचिंग टीम को मैच गंवाना पडा।

Cricket मैच के बाद दोनों टीमों ने एक दूसरे से हाथ मिलाया। कार्यक्रम के समापन पर टीचिंग स्टाफ टीम को एम्पायर ने अपने हाथों से प्रतीक चिहृन दिया।